लोकसभा क्षेत्र में विकास नहीं, मतदाता पसोपेश में

लोकसभा क्षेत्र में विकास नहीं, मतदाता पसोपेश में

Purushotham Reddy | Publish: Apr, 17 2019 03:31:29 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

न बुनियादी सुविधाएं न रोजगार

चेन्नई. लोकसभा चुनाव का मतदान गुरुवार को होगा, इसके लिए प्रचार प्रसार मंगलवार को बंद हो चुका है। पिछले दो महीने से राजनीतिक पार्टियां और नेता वोट बटोरने के लिए कसरत कर रहे हैं लेकिन मतदाताओं के जेहन में एक ही बात घर कर गई है कि आखिर वोट किसको दें और क्यों दें?
बतादें कि २०१४ के लोकसभा चुनाव में जयललिता लहर पर सवार होकर एआईएडीएमके उम्मीदवार पी. वेणुगोपाल चुनाव जीत गए थे जिन्होंने तिरुवल्लूर के निवासियों से लोकसभा क्षेत्र की बुनियादी समस्याएं दूर करने का वादा किया था लेकिन उन्होंने आमजन के हित में कोई काम नहीं किया।
तिरुवल्लूर निवासी आर. वेंकटाचलम बताते हैैं कि पिछली बार सांसद ने वादा किया था कि तिरुवल्लूर स्टेशन पर सभी एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव होगा लेकिन यह वादा भी पूरा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि तिरुवल्ल्ूार से अम्बत्तूर तक कई क्रॉङ्क्षसग हैं जिन पर फुट ओवरब्रिज बनाने का वादा किया गया था लेकिन इन सभी रेलवे क्रासिंग पर कोई एफओबी नहीं बनाया गया जिसके कारण राहगीरों को जान हथेली पर लेकर रेलवे ट्रेक पर से गुजरना पड़ता है।
वहीं गुम्मिडीपूंडी निवासी डी. सरला का कहना था कि अम्मा के गुजरते ही गुम्मिडीपूंडी से अधिकांश कंपनियां चली गई। इसके चलते यहां के लोगों को रोजगार के लिए पड़ोस के राज्य आंध्रप्रदेश के श्रीसिटी में जाना पड़ता है। उन्होंने कहा हम दो सौ से भी अधिक महिलाएं यहां से श्रीसिटी काम करने जाती हैं। हालांकि कंपनियों ने हमारे आने जाने के लिए बस की व्यवस्था कर दी है। अब यह सोचना पड़ रहा है कि वोट राजनीतिक दलों के उम्मीदवार को किसलिए दें? पेरियपालयम निवासी जी. पर्मिला का कहना था कि पहले महिलाओं को पेरियपालयम में ही पेपर मिल्स और केमिकल कंपनियों में काम मिल जाता था लेकिन इन पांच सालों में अधिकांश कंपनियां बंद हो चुकी हैं। ऐसे में हमें काम के लिए पड़ोसी राज्य आंध्रप्रदेश में जाना पड़ता है।
पोन्नेरी बस स्टैंड के नजदीक चाय की दुकान पर खड़े अरुणाचलम से जब पूछा गया कि वोट किस मुद्दे पर देंगे तो उनका कहना था कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पांच साल पहले पोन्नेरी को स्मार्ट सिटी बनाने की घोषणा की थी लेकिन अभी तक पोन्नेरी न स्मार्ट हुआ न सिटी। यहां जर्जरित सडक़ें, रोजगार का अभाव, पेयजल की कमी सरीखे कई मुद्दे हैं जिनको मद्देनजर रखकर मतदान किया जाएगा। पूंडी पंचायत यूनियन के सचिव एआईएडीमके नेता मणिरत्नम ने अपनी पार्टी पर ही सवाल उठाते हुए कहा पांच साल में एआईएडीमके सरकार ने आमजन के लिए कुछ भी ऐसा नहीं किया जिसके आधार पर वोट मांगे जाएं। इस बार मतदाता मौन साधे बैठा है वह अपना फैसला ईवीएम के बटन दबाकर ही करेगा।
माधवरम निवासी मार्कंडेय सिंह का कहना था कि एआईएडीएमके के गत ८ साल के शासन में माधवरम में ड्रेनेज सिस्टम का काम पूरा नहीं हुआ है ऐसे में हम उसे वोट किस आधार पर दें।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned