विद्यार्थियों के लिए 21 से 25 तक संचालित नहीं होगी ऑनलाइन कक्षाएं: सेंगोट्टयन

राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री के.ए. सेंगोट्टयन ने बुधवार को कहा स्कूल के विद्यार्थियों की चिंताओं को कम करने के उद्देश्य से आगामी 21 से 25 सितंबर तक ऑनलाइन कक्षाओं और टेलिविजन पर वीडियो कक्षाओं का संचालन नहीं होगा।

By: Vishal Kesharwani

Published: 09 Sep 2020, 05:33 PM IST


चेन्नई. राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री के.ए. सेंगोट्टयन ने बुधवार को कहा स्कूल के विद्यार्थियों की चिंताओं को कम करने के उद्देश्य से आगामी 21 से 25 सितंबर तक ऑनलाइन कक्षाओं और टेलिविजन पर वीडियो कक्षाओं का संचालन नहीं होगा। गोबिचेट्टीपालयम में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा आमतौर पर छात्रों के लिए त्रैमासिक और अर्धवार्षिक परीक्षा अवकाश घोषित किए जाते हैं, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से ऑनलाइन कक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है।

 

छात्रों के लिए एक छुट्टी उन्हें फिर से ताजा करने में मदद करेगी। उन्होंने कहा राज्य के मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी के साथ विद्यार्थियों के लिए छुट्टी घोषित करने को लेकर चर्चा की जा रही है। ब्लाक स्तर के अधिकारियों द्वारा निजी समेत अन्य सभी स्कूलों पर निगरानी रखी जाएगी, ताकि यह पता लगाया जा सके कि छुट्टी के दौरान वे कक्षाओं का आयोजन तो नहीं कर रहे हैं।

 

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा है कि मानक संचालन प्रक्रिया अपनाते हुए 9 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूलों को आंशिक रूप से खोला जाना चाहिए, पर राज्य सरकार का निर्णय क्या है के जवाब में मंत्री ने कहा राज्य में कोरोना की स्थिति स्थिर होने के बाद ही स्कूलों को खोलने को लेकर किसी प्रकार का निर्णय लिया जाएगा। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर अध्ययन के लिए राज्य द्वारा 12 सदस्यों की विशेष टीम का गठन किया गया है।

 

उनके द्वारा प्राप्त होने वाले रिपोर्ट के आधार पर इस नीति को लागू करने को लेकर निर्णय लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल को लिखे एक पत्र में राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री केपी अन्बलगन ने कहा था कि तमिलनाडु में हमेशा से दो भाषाई फार्मूले का ही अनुसरण हुआ है और यह सफल भी रहा है। राज्य सरकार ने भविष्य में भी इस प्रक्रिया को जारी रखने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी और अन्य सभी मंत्रियों के साथ एनईपी पर चर्चा किया गया। विस्तृत चर्चा और मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार राज्य सरकार ने सदस्यों की एक टीम का गठन भी किया है जो नीति पर अध्ययन कर रिपोर्ट तैयार करेगी।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned