तमिलनाडु में कोरोना रोधी वैक्सीन का स्टॉक खत्म, टीकाकरण पर लगी रोक

राज्य को शुक्रवार को कोविशील्ड वैक्सीन की 3.6 लाख खुराक मिलनी है और स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि इनके आने के बाद ही चीजें हो पाएंगी।

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 09 Jun 2021, 04:44 PM IST

चेन्नई.

तमिलनाडु में टीकाकरण अभियान बीच में ही रुक गया है क्योंकि राज्य में कई जिलों में आवश्यक खुराक की कमी हो गई है। राज्य की 45 स्वास्थ्य इकाइयों में से 39 ने टीकों की कमी की सूचना दी। राज्य को बुधवार को कोवैक्सिन की 63,370 खुराक और गुरुवार को अन्य 40,000 खुराक की उम्मीद है। राज्य को शुक्रवार को कोविशील्ड वैक्सीन की 3.6 लाख खुराक मिलनी है और स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि इनके आने के बाद ही चीजें हो पाएंगी।

मंगलवार को, विरुदनगर के सांसद और कांग्रेस नेता बी मनिकम टैगोर ने अपना दूसरा कोविशील्ड वैक्सीन लेने से इनकार कर दिया क्योंकि जिले में आम लोगों के लिए टीकों की कमी थी। मनिकम टैगोर ने बताया कि मैंने 8 अप्रैल को टीके की पहली खुराक ली थी और मंगलवार 8 जून को मुझे दूसरी खुराक मिलने वाली थी, लेकिन दुर्भाग्य से मुझे पता चला कि सरकारी अस्पतालों और आम लोगों में टीकों की भारी कमी है। जब मैंने स्वास्थ्य सेवा के उप निदेशक से संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि मैं एक विशेष व्यवस्था के माध्यम से टीका लगवा सकता हूं। मुझे बताया कि सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में टीकाकरण शिविर नहीं हो सकता क्योंकि स्टॉक खत्म हो गया है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की राय है कि यदि टीके बड़ी मात्रा में नहीं आते हैं और राज्य को छोटे बैचों में टीके प्राप्त होते हैं तो इससे टीकों के वितरण पर असर पड़ेगा। तमिलनाडु के संयुक्त निदेशक टीकाकरण, के. विनयकुमार ने बताया, "हम उम्मीद कर रहे हैं कि कुछ टीके राज्य में समय से पहले पहुंच जाएंगे। अगर हमें टीके छोटे बैचों में मिलते हैं तो इससे वितरण में बाधा आएगी और टीकों में देरी होगी।

राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग की टीकाकरण शाखा ने पहले ही संबंधित जिला प्रशासन को सूचित कर दिया है कि जब तक राज्य को पर्याप्त मात्रा में स्टॉक नहीं मिलता है, तब तक वे टीकाकरण अभियान फिर से शुरू नहीं कर पाएंगे। तमिलनाडु को अब तक राज्य और केंद्रीय कोटे के तहत 1.01 करोड़ खुराकें मिल चुकी हैं और 97.5 लाख खुराक दी जा चुकी हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जनवरी 2021 से अब तक टीकों की तीन लाख खुराक बर्बाद हो गई हैं।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि केंद्र सभी वयस्कों को टीके खरीदेगा और उपलब्ध कराएगा, टीकों की नई बोलियों के लिए कॉल को समाप्त कर दिया गया है। राज्य में सक्रिय मामले और नए नए मामले कम हो रहे हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि आगे के प्रकोप को रोकने के लिए अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण करना महत्वपूर्ण है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned