कचरे का ऑनलाइन कारोबार

आत्मनिर्भर भारत की दिशा में बढ़ते कदम, मद्रास वेस्ट एक्सचेंज से जुड़े दो हजार खरीदार व विक्रेता

By: ASHOK SINGH RAJPUROHIT

Updated: 07 Jul 2020, 08:15 PM IST

चेन्नई. जिस घर के कबाड़ व कचरे को लोग अनुपयोगी समझकर ऐसे ही फेंक देते हैं वह कमाई का जरिया भी बन सकता है। इसकी खरीद के लिए ऐसी ही एक वेबसाइट एवं मोबाइल ऐप तैयार किया गया है जिसमें कोई भी व्यक्ति, संस्था, स्कूल, अस्पताल, मंदिर या कंपनी मुफ्त में रजिस्ट्रेशन करा सकती है। यह पोर्टल खरीदारों व विक्रेताओं को सीधे एक दूसरे से जोड़ती है। सामग्री का मूल्य निर्धारण खरीदार व विक्रेता आपस में ही करते हैं। ऐसे में बिचौलियों की कोई भूमिका नहीं होती।
नारियल के खोल व फूलों के कचरे के ऑर्डर मिले
स्मार्ट सिटी मिशन के फैलोशिप प्रोग्राम के तहत मद्रास वेस्ट एक्सचेंज की वेबसाइट करीब छह महीने पहले लांच की गई। अब तक इससे करीब दो हजार के आसपास खरीदार व विक्रेता जुड़ चुके हैं। इसे नारियल के खोल, प्लास्टिक व फूलों के कचरे के ऑर्डर मिल चुके हैं। चेन्नई महानगर में करीब चार हजार कबाड़ी हैं। अधिकांश ने इससे जुडऩे की इच्छा जाहिर की है।
लोग करने लगे हैं रिसाइक्लिंग
भारत में अपनी तरह की संभवत: यह पहली वेब पोर्टल है जो रिसाइकल योग्य कचरा, स्क्रैप सामग्री और पुनर्नवीनीकरण उत्पाद दोनों को खरीदने एवं बेचने के लिए एक ऑनलाइन बाजार मुहैया कराती हैं तथा रिसाइक्लेबल गैर बायोडिग्रेडेबल कचरे को व्यापार की सुविधा देती है। ऐसे में कई लोग अपने घर के कचरे को अलग करने एवं उनकी रिसाइक्लिंग के काम में लग गए हैं।
पंजीकरण के बाद व्यापार की सुविधा
व्यापारी को मद्रास वेस्ट एक्सचेंज में पंजीकरण कराना होता है जिसमें विवरण भरना होता है। सत्यापन के लिए उनके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजी जाती है। एक बार सत्यापन के बाद अन्य पंजीकृत व विक्रेता जियोटैग का उपयोग कर बिक्री के लिए सामग्री देख सकते हैं। यह पोर्टल सभी तरह के ठोस कचरे के व्यापार की सुविधा मुहैया करवाती है।

ASHOK SINGH RAJPUROHIT
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned