नेता का दावा : पहले इस जमीन पर था छात्रावास

जुबानी जंग : panchami land मामले में रामदास ने स्टालिन पर साधा निशाना । स्टालिन ने मुरासोली वाली जमीन का पट्टा ट्विटर पर शेयर किया तो रामदास ने सवालों की झड़ी लगा दी।

चेन्नई. पीएमके और डीएमके के बीच मुरासोली कार्यालय परिसर की जमीन को लेकर सवाल-जवाब का दौर जारी है। पीएमके ने डीएमके अध्यक्ष एम. के. स्टालिन से दावे में कहा कि यह पंचमी (आदिद्रविड़ों के लिए वर्गीकृत) जमीन थी जिस पर कभी आदिद्रविड़ छात्रावास हुआ करता था।

जुबानी जंग का यह दौर शुरू हुआ स्टालिन द्वारा धनुष Actor dhanush अभिनीत फिल्म असुरन की तारीफ से जिसमें वे हीरो के पंचमी जमीन को छुड़ाने के लिए किए जाने वाले यलगार का स्मरण कराते हैं। पीएमके संस्थापक डा. एस. रामदास ने टिप्पणी की थी कि उनको ताज्जुब है कि स्टालिन को एक असुर से सीख मिली, लेकिन क्या वे पंचमी जमीन पर बने मुरासोली की जमीन वापस करने को तैयार हैं?

स्टालिन ने जवाब में मुरासोली वाली जमीन panchami land का पट्टा ट्विटर पर शेयर किया। इस पर रामदास ने सवालों की झड़ी लगा दी। उनका पहला सवाल था कि इस जमीन का पट्टा दिखाने वाली स्टालिन क्या जमीन से जुड़े पंजीकृत कागजात दिखा सकेंगे अथवा जमीन मालिक के पास ये दस्तावेज नहीं हैं?

रामदास का प्रश्न यह भी था कि मुरासोली की इमारत कब बनी? क्या स्टालिन को पता है इस जमीन पर पहले आदिद्रविड़ों का छात्रावास हुआ करता था? इसे निजी जमीन बताने वाले स्टालिन क्या यह बता सकते हैं कि उनका दावा सही है तो वहां छात्रावास कैसे आया?

MAGAN DARMOLA
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned