5 लाख की धोखाधड़ी के आरोप में पंचायत सचिव निलंबित

कुमारीपालयम पंचायत सचिव कांदासामी को अवैध नल जल कनेक्शन के लिए फर्जी बिल जारी कर 5.८९ लाख रूपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में सोमवार को सेवा से निलंबित कर दिया गया।

By: Vishal Kesharwani

Published: 22 Sep 2020, 05:03 PM IST


नामक्कल. कुमारीपालयम पंचायत सचिव कांदासामी को अवैध नल जल कनेक्शन के लिए फर्जी बिल जारी कर 5.८९ लाख रूपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में सोमवार को सेवा से निलंबित कर दिया गया। सूत्रों के अनुसार एक सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा धन के दुरुपयोग का आरोप लगाए जाने के बाद यह मामला प्रकाश में आया है। इसकी पुष्टि करते हुए जिला कलक्टर के. मेघराज ने बताया कि कांदासामी का कालिपालयम पंचायत में तबादला के बाद राजस्व विभाग को धन के दुरुपयोग के बारे में पता चला। जिसके बाद सोमवार को उसे निलंबित कर ब्लॉक विकास अधिकारी को उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराने का निर्देश दिया गया।

 

उन्होंने कहा सामाजिक कार्यकर्ता धनलक्ष्मी रामासामी को राइट टू इंफॉरमेशन के माध्यम से पूरी जानकारी मिली थी तो उन्होंने कार्रवाई के लिए इस मुद्दे को उठाया। बातचीत के दौरान धनलक्ष्मी ने बताया कि पंचायत में 269 व्यक्तिगत टैब कनेक्शन और 247 सामान्य कनेक्शन है। उसके बावजूद जब स्थानीय लोग जल संकट का सामना कर रहे थे तो मुझे कांदासामी की गतिविधियों पर संदेह हुआ और उसके अवैध गतिविधि के बारे में पता किया। राजस्व विभाग के सूत्रों ने बताया कि स्थानीय लोगों से लगातार शिकायत मिलने के बाद दो डिप्टी तहसिलदारों को तैनात किया गया। अधिकारियों ने पिछले सप्ताह पंचायत कार्यालय के सभी एकाउंट का जायजा लिया। इस दौरान उन लोगों ने नकली बिल बुक और एकाउंट पाया, जिसमें अवैध टैब कनेक्शन की जानकारी थी। विस्तृत जांच के बाद अधिकारियों को पता चला कि सचिव ने 5.८९ लाख का कथित तौर पर धोखाधड़ी किया है।

 

जिसके बाद मोहानुर बीडीयो गुनालत ने सचिव को कारण बताओं नोटिस जारी किया। राज्य में जल संकट के दौरान राज्य सरकार ने जिला कलक्टरों को शहरी और ग्रामीण इलाकों में अवैध कनेक्शन को खत्म करने का आदेश दिया था। लेकिन उसके बावजूद कांदासामी ने अवैध कनेक्शन को नहीं काटा। उसने अपने नकली बिल बुक के माध्यम से बिल एकत्र किया और उन्हें प्रिंट करा लिया। राजस्व अधिकारियों द्वारा बिल बुक को जब्त कर एकाउंट की जांच की जा रही है। जांच पड़ताल पूरा होने के बाद सही आकड़ों का पता चल जाएगा।

Show More
Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned