scriptPattina Pravesam customary ritual held in Mayiladuthurai | पटिना प्रवेशम: तमिलनाडु में भक्तों ने पुजारी के पालकी को कंधों पर उठाया | Patrika News

पटिना प्रवेशम: तमिलनाडु में भक्तों ने पुजारी के पालकी को कंधों पर उठाया

- धर्मपुरम में धार्मिक उत्साह के साथ आयोजित

चेन्नई

Published: May 23, 2022 03:28:44 pm

चेन्नई.

तमिलनाडु के मईलाडुटुरै में धर्मपुरम अधीनम (मठ) के पुजारी को पालकी पर भक्तों द्वारा कंधों पर ले जाने की सदियों पुरानी प्रथा 'पट्टिना प्रवेशम' का रविवार देर रात यहां धार्मिक उत्साह के साथ आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम को देखने के लिए राज्य के विभिन्न हिस्सों से हजारों की संख्या में श्रद्धालु धर्मपुरम पहुंचे। 27वें गुरु महा सन्निधानम (पोंटिफ) श्री ला श्री मासिलामणि देसिगा ज्ञानसंबंध परमाचार्य स्वामीगल को पारंपरिक संगीत कलाकारों की टुकड़ी के बीच शैव मठ के चारों ओर चार 'माडा सडक़ों' के माध्यम से एक जुलूस में सजाया गया था।

Pattina Pravesam customary ritual held in Mayiladuthurai
Pattina Pravesam customary ritual held in Mayiladuthurai

इस रंगारंग कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के. अन्नामलाई के अलावा तमिलनाडु और अन्य के विभिन्न शैव मठों के संतों ने भाग लिया। धर्मपुरम में रंग-बिरंगी लाइटों से पूरा मठ जगमगा उठा।

विरोध की धमकियों के बाद सुरक्षा प्रदान करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। पट्टिना प्रवेशम हर साल धर्मपुरम अधीनम में गुरु ज्ञानसंबंदर की याद में 10-दिवसीय समारोह के हिस्से के रूप में आयोजित किया जाता है। ज्ञानंबंदर ने शैव सिद्धांत की विचारधारा को फैलाने के लिए 16वीं शताब्दी में मठ की स्थापना की थी।

पट्टिना प्रकाशम इस महीने की शुरुआत में विवादों में घिर गई थी, जब मईलाडुटुरै के राजस्व मंडल अधिकारी ने डीएमके के विरोध के बाद संविधान के अनुच्छेद 23 के अनुसार मानवाधिकारों के उल्लंघन का हवाला देते हुए अनुष्ठान पर प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया था। प्रतिबंध के आदेश ने विपक्षी अन्नाद्रमुक, भाजपा, डीएमडीके, आरएसएस और हिंदू समर्थक संगठनों के साथ राज्य में राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया और सत्तारूढ़ डीएमके सरकार की निंदा की और प्रतिबंध को रद्द करने की मांग की।

वहीं सीपीएम, सीपीआई, वीसीके और नाम तमिलर कच्ची और दूसरों ने मांग की कि पट्टिना प्रवेशम जैसे आयोजनों पर प्रतिबंध जारी रहना चाहिए। विभिन्न मठों के संतों और प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री एमके स्टालिन से मुलाकात की और उनसे प्रतिबंध हटाने का आग्रह किया, जिसके बाद सरकार ने अपने प्रतिबंध आदेश को रद्द कर दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र में शिवसेना के टूटने से डरे अरविंद केजरीवाल, अपने विधायकों से की ये अपीलपश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था को लेकर चिंतित BJP नेता सुवेंदु अधिकारी, गृह मंत्री अमित शाह लिखा पत्रIndian Navy: 15 अगस्त को भारत की सेवा में तैनात होगा आईएनएस विक्रांतUdaipur Murder: आखिर क्यों कोर्टरूम से निकलते ही मोहम्मद मोहसिन को पहना दी एनआईए ने हथकड़ीसिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध फिर भी चाय बेचने वाले डिस्पोजल का कर रहे उपयोगChandrashekhar Guruji Murder: कर्नाटक में बेखौफ हुए अपराधी? जाने माने वास्तु शास्त्री की दिन दहाड़े चाकू मारकर हत्याशॉर्ट सर्किल से होटल की तीसरी मंजिल पर लगी आग, मची अफरा-तफरीMaharashtra: ठाणे नगर निगम में पिछले 5 सालों में बढ़ी ट्रांसजेंडर मतदाताओं की संख्या, यहा देखें आँकड़े
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.