scriptpeople are getting sick due to fraud by packaged food companies | पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार | Patrika News

पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार

Packaged Food Products : घर-परिवार के स्वास्थ्य (Health) को लेकर सतर्क होते भारतीय अब पैकेज्ड फूड आइटम Packaged Food Products) पर छपने वाले ई-कोडिंग (E- Code) पर सवाल उठा रहे हैं। लोगों की शिकायत है कि ई-कोडिंग/नंबर के नाम पर कंपनियां शाकाहारी उत्पादों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए मांसाहारी (non vegetarian food) और जहरीले इंग्रिडियंट (poisonous ingredients) मिलाती हैं, जो स्वास्थ्य (Health) के लिए बेहद हानिकारक (Harmful) हैं।

चेन्नई

Updated: April 18, 2022 07:06:02 am

Packaged Food Products : घर-परिवार के स्वास्थ्य को लेकर सतर्क होते भारतीय अब पैकेज्ड फूड आइटम (Packaged Food Products) पर छपने वाले ई-कोडिंग (E- Code) पर सवाल उठा रहे हैं। लोगों की शिकायत है कि ई-कोडिंग/नंबर के नाम पर कंपनियां शाकाहारी उत्पादों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए मांसाहारी (non vegetarian food) और जहरीले इंग्रिडियंट (poisonous ingredients) मिलाती हैं, जो स्वास्थ्य (Health) के लिए बेहद हानिकारक (Harmfull) हैं। ई-नंबर मूल रूप से यूरोपीय देशों की देन हैं। पैकेट पर यह इंग्रिडियंट एक कोड जैसे ई-100 से लेकर ई-1599 तक होते हैं। इनमें ई-322, ई-472, ई-631 जैसे कई तत्व अधिकतम मांसाहारी होते हैं जिन्हें कंपनियां साफ न लिखकर कोड में लिखती है ताकि ग्राहक इस कोड का मतलब न समझ पाएं। हालांकि विवाद के बाद कई कंपनियों ने कहा कि भारत में बिकने वाले उत्पादों में प्लांट फैट (Plant fat) जबकि यूरोपीय देशों में एनीमल फैट (Animal Fat) का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा एल्कोहल, घातक कैमिकल, कृत्रिम रंग, एंटीऑक्सीडेंट्स और एसिडिटी रेग्यूलेटर्स, प्रिजरवेटिव्स जैसे तमाम इंग्रिडियंट को भी साफ न लिखकर कोड में लिखा जाता है।
अमूमन विदेशी कंपनियों के पैकेज्ड नूडल्स (noodles), पाश्ता (Pasta), पिज्जा (Pizza), बिस्किट (Biscuits), चिप्स (Chips), चॉकलेट (chocolate), सूप, च्यूइंगम आदि में एनीमल फैट (Animal Fat) प्रयोग होता है, लेकिन पैकेट पर हरा गोला दिखाकर शाकाहारी बताया जाता है। तमाम कंपनियां अब ई- कोडिंग की जगह इंटरनेशनल नंबरिंग सिस्टम (आईएनएस) नंबर लिख रही हैं ताकि ग्राहक भ्रमित रहें। दिल्ली हाईकोर्ट ने जनवरी 2022 में अपने एक फैसले में फूड बिजनेस ऑपरेटर्स को निर्देश दिया था कि प्रोडक्ट्स में ई- कोड के अलावा इस्तेमाल हर चीज का स्रोत पौधों या जानवर जो भी हो लिखना जरूरी है। हालांकि इस मामले में कंपनियों का कहना है कि सरकारी अधिसूचना में बाल,पंख, सींग, नाखून, चर्बी, अंडे की जर्दी को मांसाहार से बाहर रखा गया है तो फिर उपयोग में क्या दिक्कत है।

पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार
पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार
पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार

40 फीसदी बच्चो में शार्ट टर्म मेमोरी लॉस
जंक फूड, सॉफ्ट ड्रिंक्स या डायट सोडा से करीब 40 फीसदी बच्चो में शार्ट टर्म मेमोरी लॉस पाया गया है। रेडी टू कुक फूड, डिब्बाबंद फूड, कुकीज, डिब्बाबंद नूडल्स, फ्रोजन फूड, ब्रेड, चिप्स, पिज्जा, बर्गर बच्चों को हाइपर कर रहे हैं। स्कॉटलैंड में 4,000 बच्चों पर हुए अध्ययन में साफ हुआ कि ताजा खाना खाने वाले बच्चों का आईक्यू लेवल (बौद्धिक स्तर) अन्य बच्चों की अपेक्षा 19 गुना ज्यादा पाया गया।

भारत में क्या हैं कानूनी प्रावधान
कानूनी विशेषज्ञों का मानना है कि ग्राहक अगर किसी उत्पाद को खरीदता है तो उसे यह जानने का अधिकार है कि उत्पाद में क्या इंग्रिडियंट हैं। शाकाहारी पैकेट में मांसाहारी चीजें मिलाना खाद्य संरक्षण अधिनियम के 2013 का उलंघन है। इसके तहत धार्मिक भवानाओं को ठेस पहुंचाने, क्षपिपूर्ति, दो साल तक सजा और पांच लाख तक जुर्माने का प्रावधान है। कंपनियां टम्र्स एंड कंडीशन को छोटे अक्षरों में और चेतावनी को न लिखकर भी ग्राहकों के साथ धोखा कर रही हंै।

पैकेज्ड फूड कंपनियों की धोखेबाजी से करोड़ो लोग हो रहे बीमार

न्यूरोट्रांसमीटर हो रहे क्षतिगस्त
पैकेटबंद फूड में ट्रांस फैट ब्रेन वॉल्यूम और याद्दाश्त को गंभीर रूप से कमजोर करता है। दिमाग में ब्रेड ड्राइवड न्यूरोटॉफिक फैक्टर (बीएनडीएफ) का उत्पादन कम होता है। इससे सीखने की क्षमता घटती है और नए न्यूरॉन कम बनते हैं। न्यूरोट्रांसमीटर क्षतिगस्त होने लगते हैं।
- डॉ. सोमशेखर, बाल रोग विशेषज्ञ, एम एस रामय्या अस्पताल, बेंगलूरु

जारी हों स्पष्ट दिशा-निर्देश
सरकार को स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी कर प्रावधान करना चाहिए कि हर पैकेज्ड फूड में इस्तेमाल सामग्री की सही और स्पष्ट जानकारी ई-कोड की बजाय बड़े अक्षरों में लिखी जाए। नियम उल्लंघन पर संबंधित कंपनी के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई का प्रावधान भी होना चाहिए।
- दिवाकर द्विवेदी, क्रिमिनल एवं खाद्य मामलों के वरिष्ठ वकील

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाब30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नियुक्त किया नया पीएममध्यप्रदेश: दो समुदायों में तनाव के बाद देर रात नीमच सिटी में धारा 144 लागू'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हलSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.