scriptPongal celebrating in Tamilnadu | तमिलनाडु में भोगी से शुरू हुआ 4 दिवसीय पोंगल उत्सव, स्वास्थ्य मंत्री ने वर्करों के साथ मनाया पोंगल | Patrika News

तमिलनाडु में भोगी से शुरू हुआ 4 दिवसीय पोंगल उत्सव, स्वास्थ्य मंत्री ने वर्करों के साथ मनाया पोंगल

पोंगल तमिलनाडु में सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है।

चेन्नई

Published: January 13, 2022 03:40:05 pm

चेन्नई.

तमिलनाडु का सबसे खास पर्व पोंगल की आज से शुरूआत हो गई है। राज्य के चिकित्सा एवं परिवार कल्याण मंत्री एमए सुब्रमण्यन ने जीएस मेडिकल अस्पताल में फ्रंट-लाइन वर्करों के साथ पोंगल मनाया। पोंगल तमिलनाडु में सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है।

Pongal celebrating in Tamilnadu
Pongal celebrating in Tamilnadu

इस त्यौहार का नाम पोंगल इसलिए है क्योंकि इस दिन सूर्य देव को जो प्रसाद अर्पित किया जाता है वह पगल कहलता है। तमिल भाषा में पोंगल का एक अन्य अर्थ निकलता है अच्छी तरह उबालना। दोनों ही रूप में देखा जाए तो बात निकल कर यह आती है कि अच्छी तरह उबाल कर सूर्य देवता को प्रसाद भोग लगाना। पोंगल का महत्व इसलिए भी है क्योंकि यह तमिल महीने की पहली तारीख को आरम्भ होता है।

चार दिनी पोंगल की शुरुआत भोगी से होगी। उसके बाद 15 जनवरी को तई पोंगल यानी सूर्य पोंगल, 16 जनवरी को माट्टू पोंगल और 17 जनवरी को काणुम पोंगल मनाया जाएगा। पोंगल को लेकर बाजार भी चमन है। गन्ना, फूल, पोंगल सामग्री और फलों की बिक्री बड़ी है। थोक और खुदरा बाजारों में ग्राहक उमड़ रहे हैं। भोगी को लेकर पुलिस और प्रशासन ने हिदायत दी है कि प्लास्टिक, टायर आदि वस्तुएं जलाकर पर्यावरण को प्रदूषित नहीं करें। महानगर में सुबह के वक्त धुंध बहुत ज्यादा है। ऐसे में अलसुबह जलने वाली पुरानी वस्तुओं की होली से धुंध का स्तर और गहरा सकता है जो आवाजाही को प्रभावित करेगा।

माट्टू पोंगल के दिन ही ब्राह्मण परिवारों में भाइयों की सुख-समृद्धि की कामना लिए चावल की विविध किस्मों और मीठे पोंगल की भेंट केले के पत्ते पर रखकर चढ़ाई जाती है जिसे कणुपुड़ी रखना कहा जाता है। पोंगल के अंतिम दिन को काणुम कहते हैं। सभी परिवार एक हल्दी के पत्ते को धोकर इसे जमीन पर बिछाते हैं और इस पर एक दिन पहले का बचा हुआ मीठा पोंगल रखते हैं। वे गन्ना और केला भी शामिल करते हैं।

यह है चार दिवसीय पोंगल
भारत की अधिकांश जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है और कृषि समुदायों से संबंधित है, और इसलिए फसल कटाई का यह उत्सव प्रासंगिक और लोकप्रिय दोनों है। यह आमतौर पर जनवरी के मध्य में मनाया जाता है, और महीने के 14वें या 15वें दिन के आसपास शुरू होता है। यह उत्सव मौसम परिवर्तन की खुशी में मनाया जाता है। यह फसलों की कटाई का उत्सव शामिल करता है और साथ ही यह दर्शाता है कि वर्ष के लिए क्षेत्र में मानसून का मौसम समाप्त हो गया है।

भोगी से शुरू होगा चार दिवसीय पोंगल उत्सव
पोंगल तमिलनाडु का महत्वपूर्ण पर्व है इसका शाब्दिक आशय उबालना है। पोंगल की हंडी चढ़ाकर जब मीठा चावल उबलकर बाहर आता है तो जनता खुशी के मारे में पोंगलो... पोंगल कहकर अच्छी फसल के लिए भगवान सूर्य को नमन करती है। सूर्य पोंगल अथवा तई पोंगल की यही खूबी है जो कि पूरी तरह किसानों और अच्छी फसल की व्याख्या करता है।

उत्सव के पहले दिन को भोगी पोंगल कहा जाता है, और यह उत्सव हिंदू देवता भगवान इंद्र के सम्मान में आयोजित किया जाता है जो धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बादलों को उसकी वर्षा देते हैं। संपन्नता और सर्दी के मौसम की समाप्ति का त्योहार मनाने के लिए एक बड़ा अलाव जलाया जाता है। कई परिवार घर की पुरानी अनुपयोगी चीजों को अलाव में डालते हैं।

भोगी से शुरू होगा चार दिवसीय पोंगल उत्सव
दूसरे दिन भगवान सूर्य की पूजा होती है और मीठा पोंगल उनको भेंट किया जाता है। तीसरा दिन पशुओं की देखभाल, पूजा तथा उनकी सेवाओं को मनाने के लिए होता है। मवेशियों को मोती, घंटी, अनाज, और फूलों की माला से सजाया जाता है और इसके बाद उनके मालिक और स्थानीय ग्रामीण उनकी पूजा करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहfoods For Immunity: इम्युनिटी को बूस्ट करने के लिए डाइट में शामिल करें इन फूड्स कोRation Card से राशन नहीं लेने वालों पर भी होगी कार्यवाई, दूसरे के कार्ड का इस्तेमाल करने पर हो सकती है सज़ाराजस्थान में कोरोना को लेकर नई गाइडलाइन जारी,विवाह समारोह में 100 लोगों के शामिल होने की अनुमति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.