निपाह वायरस के चलते केरल के यात्रियों की कड़ी निगरानी कर रहा है तमिलनाडु

केरल की सीमा से लगे जिलों के जिला कलक्टरों और जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए है।

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 07 Sep 2021, 07:21 PM IST

चेन्नई.

इन दिनों केरल में महामारी कोरोना ने जबरदस्त आतंक मचा रखा है, इसी बीच केरल में निपाह वायरस का नया संकट आया, जिसने हडक़प मचा दिया है। दरअसल, कोरोना की मार झेल रहे केरल राज्य में निपाह वायरस के संक्रमण के कारण एक 12 साल के लडक़े की मौत हो गई है।

इसी कड़ी में तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग ने निपाह वायरस के हमले से कोझिकोड के एक 12 वर्षीय लडक़े की मौत के बाद केरल से राज्य पहुंचने वाले लोगों की कड़ी निगरानी शुरू कर दी है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने सभी चेक पोस्टों पर कड़ी निगरानी सुनिश्चित करने के लिए केरल की सीमा से लगे जिलों के जिला कलक्टरों और जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए है। इसके अलावा राज्य ने सीमाओं पर पूर्ण चिकित्सा टीमों का भी गठन किया है।

तमिलनाडु के कन्याकुमारी, तेनी, तेनकाशी, नीलगिरि, कोयम्बत्तूर और तिरुपुर के जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि केरल की सीमा से लगे सभी सडक़ों पर स्क्रीनिंग टीमों को तैनात किया जाए।

अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि जिन लोगों में बुकार के लक्षण नजर आ रहे हों उनके रक्त के नमूने, गले की सूजन, मूत्र और मस्तिष्कमेरु द्रव के नमूने एकत्र करें। केरल से राज्य में प्रवेश करने वाले सभी यात्रियों के तापमान की जांच की जाए और सीमाओं पर चिकित्सा सुविधाओं में बुखार निगरानी क्लीनिक स्थापित किए जाएं।

कोयम्बत्तूर में एक निजी कंपनी के कर्मचारी राजन वारियर ने बताया कि वालयार सीमा पर उनका बुखार टेस्ट किया गया। उन्होंने कहा कि वालयार सीमा पर पूरी तरह सुविधाओं से लैस एक टीम मौजूद है और वहीं मेरी बुखार की जांच की गई। जिन लोगों में निपाह या ऐसे ही कुछ लक्षण दिखाते हैं, उनके गले की जांच, मूत्र जांच, रक्त नमूना और सीएसएफ जांच की जाती है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned