संपत्ति कर से होने वाली ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन की आय 1000 करोड़ के पार

ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन को वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान संपत्ति कर के तौर पर कुल 1002.64 करोड़ रुपए प्राप्त हुए।

By: Ritesh Ranjan

Published: 04 Apr 2019, 01:12 PM IST

चेन्नई. ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन को वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान संपत्ति कर के तौर पर कुल 1002.64 करोड़ रुपए प्राप्त हुए। 1000 करोड़ रुपए के प्रापर्टी टैक्स वसूली का यह पहला मौका है। संपत्ति कर के रूप में प्राप्त यह रकम पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में 281.92 करोड़ रुपए अधिक है। दरअसल 2017-18 के दौरान नागरिक निकाय को इस कर से केवल 720.72 करोड़ रुपए ही प्राप्त हुए थे। चेन्नई कॉर्पोरेशन के अधिकारी ने बताया कि इस बार उनका लक्ष्य 1200 करोड़ रुपए का था लेकिन कर संशोधन कार्यों के कारण इस लक्ष्य को संशोधित करके 1000 करोड़ रुपए कर दिया गया। केवल मार्च में प्रति दिन लगभग 8 करोड़ रुपए की दर से संपत्ति कर प्राप्त हुआ। 2018-19 की पहली छमाही में निकाय को मात्र 350 करोड़ रुपए प्राप्त हुए थे लेकिन दूसरी छमाही मेेंं 750 करोड़ से भी अधिक की वसूली की गई। वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन निकाय ने 50 करोड़ रुपए की वसूली की। 15 जोन वाले चेन्नई कार्पोरेशन को सबसे अधिक 202 करोड़ रुपए का कर तेनाम्पेट जोनल कार्यालय से प्राप्त हुआ। इसके अलावा अड्यार से 133 तथा रॉयापुरम से 114 रुपए की कर वसूली की गई। अधिकारी ने बताया कि संपत्ति कर के अलावा पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में इस बार प्रोफेशनल टैक्स की वसूली में भी लगभग 45 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई है। पिछले साल के 339.78 करोड़ रुपए की तुलना में इस साल 385 करोड़ रुपए प्रोफेशनल टैक्स वसूला गया। कुल मिलाकर ग्रेटर चेन्नई कार्पोरेशन को इस बार लगभग 1472 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। हालांकि दिलचस्प बात यह है कि 2019-20 में निकाय कर्मियों के वेतन एवं पेंशन के व्यय का कुल अनुमानित खर्च 1739.03 करोड़ रुपए है। खर्च की यह रकम प्रापर्टी टैक्स से होने वाली कुल वसूली से लगभग 737 करोड़ रुपए अधिक है। हालांकि नागरिक निकाय को विभिन्न परियोजनाओं को लागू करने के लिए सरकारी अनुदान भी प्राप्त होता है। निगम अधिकारी ने कहा कि जो लोग 31 मार्च तक अपने संपत्ति कर का भुगतान नहीं कर पाए हैं कॉर्पोरेशन कार्यालय जाकर या ऑनलाइन माध्यम 2019-20 के मौजूदा कर के साथ ही इसका भुगतान भी कर सकते हैं।

Show More
Ritesh Ranjan Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned