scriptrajasthani comunity | राजस्थान व गुजरात की संस्कृति का समन्वय | Patrika News

राजस्थान व गुजरात की संस्कृति का समन्वय

हमारे रिवाज हमारी परम्परा -4
राजस्थान व गुजरात की संस्कृति का समन्वय
- गरबा व डांडिया के जरिए जोड़ रहे दोनों प्रदेशों की संस्कृति

चेन्नई

Updated: December 25, 2021 11:46:04 pm

चेन्नई. गुजरात एवं राजस्थान का प्रसिद्ध लोकनृत्य गरबा आज उत्तर एवं दक्षिण को जोड़ने का काम कर रहा है। नवरात्रि के दौरान गरबा महोत्सव के रूप में मनाया जाता है। गुजरात में नवरात्रि उत्सव की धूम रहती है और गुजराज संस्था के माध्यम से उसी रूप से यहां दक्षिण में देखा जा सकता है। यहां इस उत्सव को गरबा एवं डांडिया के रूप में मनाया जाता है। गुजरात के गरबा का खास अंदाज है जो यहां दक्षिण में भी साफ दिखता है। माता को मनाने एवं अपनी आस्था प्रकट करने का सबसे सशक्त माध्यम गरबा है। गरबा सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।
राजस्थान एवं गुजरात मूल के छह युवाओं दिलीप चंदन, भावेश पारीख, भाविन दवे, ललित भूतड़ा, जयेश सुराणा व वीरेश मेहता ने करीब 11 साल पहले गुजराज (गुजरात+ राजस्थान) नामक संस्था का बीज बोया। अब इस संस्था के माध्यम से गुजरात एवं राजस्थान की संस्कृतियों का मिलन हो चुका है। खासकर नवरात्र के नौ दिनों में दोनों प्रदेशों की संस्कृति को करीब से जानने व समझने का अवसर मिल रहा है। सामाजिक सौहार्द एवं एकता की इससे बड़ी मिसाल शायद कोई दूसरी नहीं मिल सकती।
दोनों प्रदेशों की संस्कृति को करीब से जाना जा सके
संस्था के सदस्यों ने बताया कि उद्देश्य यही था कि दोनों प्रदेशों की संस्कृति को करीब से जाना जा सके। इसके माध्यम से हर साल गरबा एवं डांडिया के आयोजन का निर्णय लिया गया। अब यह आयोजन विशाल रूप ले चुका है। महानगर में नवरात्रि के दिनों में बड़े आयोजनों में से एक गुजराज का यह महोत्सव अब काफी प्रसिद्धि हासिल कर चुका है और हर किसी की इच्छा इसमें प्रतिभागी बनने की रहती है।
नई जनरेशन की गरबा एवं डांडिया में विशेष रूचि
संस्थान के सदस्यों का कहना हैं कि नई जनरेशन की गरबा एवं डांडिया में विशेष रूचि रहती है। बच्चे भी उत्साह दिखाते हैं तो बड़े भी चाव से गरबा खेलते हैं। खास बात यह है कि हर साल गरबा एवं डांडिया महोत्सव से प्राप्त होने वाली पूरी राशि गरीबों के हितार्थ काम में ली जा रही है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह कि जिसे मदद दी जाती है उसके नाम का खुलासा भी नहीं किया जाता ताकि मदद मिलने वाले के मन में किसी तरह की कोई हीन भावना न रहे।
...
garaba
gujraj team members

गरबा किसी जाति-धर्म को नहीं देखता
उत्साह, उमंग एवं भक्ति के रंग में रंगे प्रतिभागियों का संगम यहां देखने को मिलता है। बच्चे बड़े सभी एक ही जगह पारम्परिक वेशभूषा में डांडिया पर थिरकते यहां नजर आते हैं। संगीतमय इस आयोजन के माध्यम से मां अम्बे की भक्ति देखते ही बनती है। गरबा किसी जाति-धर्म को नहीं देखता। माता की भक्ति एवं आस्था की उमंग अब इसकी पहचान बन गई है।
- दिलीप चंदन, सदस्य, गुजराज।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कततत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanNew Maruti Alto का इंटीरियर होगा बेहद ख़ास, एडवांस फीचर्स और शानदार माइलेज के साथ होगी लॉन्चVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!प्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टइन 4 राशि की लड़कियां अपने पति की किस्मत जगाने वाली मानी जाती हैंToyoto Innova से लेकर Maruti Brezza तक, CNG अवतार में आ रही है ये 7 मशहूर गाड़ियां, जानिए कब होंगी लॉन्च

बड़ी खबरें

Coronavirus update: 24 घंटे में कोरोना के 3 लाख 37 हजार नए केस, 488 मौतेंUP Assembly Elections 2022 : बसपा की दूसरी लिस्ट में 3 महिलाएं, 22 मुस्लिम चेहरें शामिल, देखिए पूरी लिस्टClub House Chat मामले में दिल्ली पुलिस कर रही 19 वर्षीय छात्र से पूछताछ, हरियाणा से भी हुई तीन गिरफ्तारियांCorona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकाGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...पीएम मोदी ने की जिला अधिकारियों से बात, बोले- आजादी के 75 साल बाद भी कई जिले रह गए पीछे, अब हो रहा अच्छा कामPM Kisan: Budget 2022 में किसानों को मिल सकती है बड़ी सौगात,पीएम किसान सम्मान की रकम में हो सकती है बढ़ोतरीUP Election 2022: .. इस प्रदेश में तो आधी आबादी ही तय करती है किसकी बनेगी सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.