धर्म भावनाओं से ही नहीं क्रिया से जरूरी

धर्म भावनाओं से ही नहीं क्रिया से जरूरी

Ritesh Ranjan | Publish: Sep, 08 2018 01:07:44 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

परमात्मा ने धर्म क्रियाएं तीन प्रकार की बताई है- मन से मनन, वचन से वाचन और काया से क्रिया करते हुए करें। धर्म क्रिया केवल भावनाओं से नहीं क्रिया से करें।

 

 

 

चेन्नई. पुरुषवाक्कम स्थित एएमकेएम में विराजित उपाध्याय प्रवर प्रवीणऋषि ने कहा जो बिना जाने-समझे भी धर्मक्रिया करता है, उसका फल बहुत मिलता है। हमें अपना इतिहास जानना चाहिए कि हमारे पूर्वज कैसे धर्म शिखर पर पहुंचे, उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए। जो सारे दु:खों के मूल पापों को नष्ट करने का सामथ्र्य रखता है, शांति, सफलता और मोक्ष का मार्ग प्रशस्त करता है उस धर्म की आराधना करें। धर्म करने से पहले उसकी पूर्व तैयारी कर लेंगे तो तपस्या में दु:ख और व्याकुलता नहीं आनन्द और शांति प्राप्त होगी।
आगम में तीर्थंकरों ने कहा है जैसा पाप किया है वैसा प्रायश्चित करें। क्रियात्मक पाप का क्रियात्मक प्रायश्चित होना चाहिए। कुछ व्यक्ति मन न हो तो भी अपने व्यावहारिक जीवन में धर्म क्रियाओं का पालन कर लेते हैं, वे भी अपना पुण्य का बंध कर लेते हैं। लेकिन बिना पूर्व तैयारी और प्रशिक्षण के क्रिया करना तो अप्रशिक्षित ड्राइवर को अपनी गाड़ी सौंप देना है।
परमात्मा महावीर सबसे पहले सही आहार, चलना, बोलना, खड़े रहना, सोना आदि धर्म क्रियाओं को प्रशिक्षण देते हैं। जिनका पालन कर व्यक्ति इस भव में अनेक प्रकार के कष्ट, पाप और विराधनों से बच जाता है। ऐसी क्रियाएं जिनसे दु:ख समाप्त हो जाए, स्वयं की एनर्जी बेकार न हो और दूसरा कोई परेशान न हो उन्हें परमात्मा धर्म क्रियाएं कहते हैं।
संसार में दो प्रकार के जीव हैं एक तो वे जो श्रद्धावान हैं, दूसरे वे जिनमें श्रद्धा और आस्था ही नहीं है। यदि बिना आस्था वाले जीव भी परमात्मा के बताए आचार-विचार को बिना आस्था के करें तो वे सर्वोच्च स्वर्ग में देव गति पा सकते हैं तो फिर यदि श्रद्धावान और परमात्मा पर आस्था रखने वाले जीव यदि परमात्मा की बताई राह पर चलें तो उनका तो परम-पद प्राप्त होना निश्चित ही है। पर्यूषण पर्व के अनमोल समय का उपयोग करें और धर्म को व्यावहारिक जीवन में उतारें। तीर्थेशऋषि ने अंतगड़ श्रुतदेव आराधना कराई। धर्मसभा में समिति के पदाधिकारियों समेत अनेक गणमान्य लोगों ने हिस्सा लिया।
-----------------

Ad Block is Banned