लॉकडाउन में लोगों ने खूब तोड़े नियम, तमिलनाडु पुलिस ने वसूले 15 करोड़ जुर्माना


- 5 लाख से ज्यादा वाहन जब्त

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 26 Jun 2020, 07:28 PM IST

चेन्नई.

कोरोना वायरस के कारण प्रदेश में लगाए गए लॉकडाउन के दौरान तमिलनाडु पुलिस ने इसकी सख्ती से पालना कराते हुए इसका उल्लंघन करने वालों के रिकॉर्ड चालान काटे हैं। 94 दिनों के लॉकडाउन के दौरान नियमों की अनदेखी कर वाहन चलाने वालों से 15 करोड़ से ज्यादा जुर्माना वसूला गया है। वहीं 5 लाख से ज्यादा वाहन जब्त की गई। लॉकडाउन के उल्लंघन से जुड़े मामलों की संख्या जहां 7 लाख पार कर गई है। वहीं 7.34 लाख से ज्यादा व्यक्तियों को इसके उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। वहीं बाद में उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया।

पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक पुलिस ने अभी तक प्रिवेंटिव एक्शन में अभी तक 734,306 लोगों को गिरफ्तार किया है। एमवी एक्ट के तहत लाखों वाहन चालकों के खिलाफ चालान काटा है और 5,45,763 वाहनों को सीज किया है। वहीं 15,44,18,285 रुपए का जुर्माना वसूला है। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने तथा आमजन के बचाव को लेकर लगाए गए लॉकडाउन के उल्लंघन को लेकर पुलिस की कार्रवाई जारी है।

लॉकडाउन का पालन कराने के लिए पुलिस जगह-जगह चेकिंग कर रही है। खासकर जिलों की सीमा पर स्थाई चेक पोस्ट बनाए गए हैं। कुछ जिलों को छोडकऱ अन्य जिलों में कई तरह की छूट मिलने के बाद लोगों की आवाजाही बढ़ी है, जिससे उल्लंघन से जुड़े मामले कम हुए हैं। तमिलनाडु में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू हुआ था।

 

पत्रिका व्यू... आपकी सुरक्षा के लिए पुलिस को चालान काटना पड़े... क्यों?
कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए सरकार ने लॉकडाउन के दौरान गाइडलाइनन जारी की। लोगों ने Chennai सहित प्रदेशभर ( Tamilnadu) में नियमों की अवहेलना की, जिनकी पालना के लिए पुलिस को बड़ी मात्रा में कार्रवाई करनी पड़ी। हालांकि पुलिस हर जगह नहीं पहुंच सकती, इसके कारण अनलॉक-1 में कोरोना महामारी अधिक फैली है। यहां विचारणीय बिन्दु यह है कि हमारी सुरक्षा की चिंता हमें ही करनी पड़ेगी। यह कब तक चलेगा कि हमारी सुरक्षा के लिए पुलिस को सख्ती करनी पड़े और नहीं मानने पर चालान काटना पड़े।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned