कश्मीर से कन्याकुमारी तक के सफर पर सूफिया सूफी

कश्मीर से कन्याकुमारी तक के सफर पर सूफिया सूफी

MAGAN DARMOLA | Updated: 13 Jul 2019, 05:09:31 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

Ajmer की सूफिया ने किया tamilnadu में प्रवेश, प्रेम एवं भाईचारे के प्रसार के लिए 4000 किलोमीटर की यात्रा

चेन्नई. सूफिया सूफी का कहना है कि मैं अन्य को यह दिखाना चाहती कि हमारा देश मानवता एवं प्रेम में विश्वास करता है। लिमका रिकार्ड होल्डर यह महिला कश्मीर से कन्याकुमारी तक की दौड़ पर है। 100 दिन में 4000 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करनी है। वे इस रन के दौरान प्रेम एवं भाईचारे का संदेश दे रही हैं। राजस्थान के अजमेर की रहने वाली सूफिया ने अपने मिशन की शुरुआत 25 अप्रैल को कश्मीर से की थी।

इस बात को लेकर वह सुनिश्चित नहीं थी कि अपनी देश भर की यात्रा पूरी कर पाएंगी अथवा नहीं। वह बीमार पड़ गई और पंजाब के जालंधर में हॉस्पिटल में भर्ती होना पड़ा। उनके दृढ़ निश्चय ने अट्टीबेल्ली (कर्नाटक) तक उनकी यात्रा को पूरा करने में सहयोग दिया। इसके बाद उन्होंने तमिलनाडु की यात्रा शुरू की। उन्होंने 3,404 किलोमीटर की यात्रा पूरी की।

एयर इंडिया की पूर्व कर्मचारी सूफिया को अभी और 633 किलोमीटर की यात्रा तय करनी है। तभी उनका मिशन पूरा होगा। इसके बाद वे गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में प्रवेश करेंगी। वे बताती हैं कि उन्होंने 2008 में एयर इंडिया ज्वॉइन की और करीब 10 साल तक वहां काम किया। फरवरी 2019 में उन्होंने अपनी नौकरी से त्यागपत्र दे दिया। उनका सपना था कि वे देश भर में दौड़ लगाए।

उन्हें अपने निर्णय पर कोई अफसोस नहीं है। एक नियोक्ता के लिए काम करने का क्या उपयोग है जो आपके मिशन और नेक काम को मदद करने के लिए तैयार नहीं है। वे प्रतिदिन 50 किलोमीटर दौड़ती हैं। वे अपनी दौड़ अलसुबह शुरू करती हैं। सुबह 7.00 बजे से पहले 30 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर लेती हैं। बचे 20 किलोमीटर के लिए वे वापस संध्या के समय दौड़ शुरू करती हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned