चेन्नई के सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने बनाया सभा सेतु एप

- आपदा को अवसर में बदला
- एक साथ सौ लोग कर सकते हैं मीटिंग
- ऑनलाइन कक्षाओं के लिए उपयोगी
- ग्रुप में चेट भी की जा सकेगी
- आत्मनिर्भर भारत की दिशा में कदम

By: Ashok Rajpurohit

Published: 01 Jul 2020, 04:57 PM IST

चेन्नई. देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं हैं। देश अब आत्मनिर्भर भारत की तरफ कदम बढ़ा रहा है। केन्द्र सरकार के चीनी एप पर प्रतिबंध से स्वदेशी एप के प्रति लोगों का झुकाव बढ़ेगा। चेन्नई के साफ्टवेयर इंजीनियर आकाश पुरोहित ने सभा सेतु एप डिजाइन किया है। यह निशुल्क होने के साथ ही मीटिंग के लिए खासा उपयोगी है। ऑनलाइन कक्षाओं के लिए भी यह एप फायदेमंद है। ग्रुप के लोग एक साथ चेट भी कर सकेंगे। हाल ही सरकार ने अलग-अलग तरीके के 59 मोबाइल एप को देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए उन पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसमें चीन के टिकटाक, शेयरइट और वीचैट जैसे एप भी शामिल है।
आत्मनिर्भर भारत की तरफ बढ़ते कदम
चीनी एप पर प्रतिबंध के बाद लोगों का रुझान निश्चित ही भारतीय एप की तरफ बढऩे लगा है। ऐसे में जब चीन पर हमारी निर्भरता खत्म हो जाएगी तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत का सपना भी साकार होगा।
क्या है सभा सेतु मोबाइल एप
सभा सेतु मोबाइल एप से आप कोई मीटिंग कर सकते हैं। ग्रुप के लोगों के साथ एक साथ चेट कर सकते हैं। मौजूदा दौर में ऑनलाइन कक्षाओं के लिए भी उपयोगी है।
ऐसे करता हैं काम
सभा सेतु एप फिलहाल अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है। मोबाइल की एप्लीकेशन डाउनलोड करनी है। इसके लिए एण्ड्रोइड प्लेस्टोर में जाकर सभा सेतु टाइप करना होगा। इसे इन्स्टाल करने के बाद रजिस्ट्रेशन करना है। यदि किसी ने इन्वाइट कोड भेजा है तो सीधा पेस्ट करके भी जा सकते है, उसमें एकाउन्ट क्रिएट करने की जरूरत नहीं है।
इस तरह आया आइडिया
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत की बात कही तो खुद का प्रोग्राम बनाने के बारे में सोचा। 25 मार्च 2020 से इस पर काम शुरू किया। प्रोग्रामिंग को कंपलीट करने में करीब सवा दो महीने का वक्त लगा। फिर टेस्टिंग शुरू की। इसे सभा सेतु एप नाम दिया। सभा यानी मीटिंग और सेतु यानी ब्रिज। जो मीटिंग के बीच ब्रिज का काम करता है। यह अभी एण्ड्रोइड एप पर है। जल्द ही आईफोन के लिए लाया जाएगा। भारत में करीब 95 फीसदी लोग एण्ड्रोइड पर है।
प्रोजेक्ट से मिला अनुभव
मूल रूप से राजस्थान के सिरोही जिले के मनादर निवासी आकाश पुरोहित ने चेन्नई के एसएमके इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी से वर्ष 2016 में बीटेक (इन्फॉर्मेेशन टेक्नोलोजी) किया है। इसके बाद खुद की कंपनी बिगपेक्स टेक्नोलोजीज चालू की जिसमें मोबाइल एप्लीकेशन व कम्प्यूटर एप्लीकेशन बनाते हैं। दुबई, जर्मनी समेत कई जगह के लिए प्रोजेक्ट किए। इससे काफी अनुभव मिला जो एप बनाने में मददगार साबित हुआ।

Show More
Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned