संस्कृत एक मृतप्राय भाषा है

संस्कृत एक मृतप्राय भाषा है

MAGAN DARMOLA | Updated: 29 Jul 2019, 06:26:30 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

MDMK leader Vaiko ने कहा मैं यह हजार बार कहूंगा कि संस्कृत एक मृतप्राय भाषा है। मैं शिक्षा मंत्री के.ए. सेंगोट्टयन की प्रशंसा करूंगा कि उन्होंने टेक्स्ट बुक से इस गलती को हटाने का आश्वासन दिया है।

चेन्नई. संस्कृत एक मृतप्राय भाषा है। यह कहना है एमडीएमके नेता वाइको का। रविवार को उन्होंने बारहवीं कक्षा की किताब जिसमें लिखा है कि संस्कृत तमिल भाषा से ज्यादा पुरानी है उस पर चेन्नई एयरपोर्ट पर पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा मैं यह हजार बार कहूंगा कि संस्कृत एक मृतप्राय भाषा है। मैं शिक्षा मंत्री के.ए. सेंगोट्टयन की प्रशंसा करूंगा कि उन्होंने टेक्स्ट बुक से इस गलती को हटाने का आश्वासन दिया है। किताब में लिखा है कि तमिल ३०० बीसी के पहले की भाषा है जबकि संस्कृत २००० बीसी पुरानी।

https://www.patrika.com/chennai-news/tamil-is-the-ancient-language-than-sanskrit-4900992/

उन्होंने यह भी मांग की है कि इस गलती के दोषी को खोजकर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। इससे पहले डीएमके प्रमुख एम.के. स्टालिन ने भी पुस्तक की इस गलती की कड़ी भत्र्सना करते हुए किताब से इस गलती को सही करने की मांग की थी। सेंगोट्टयन ने रविवार को एक ट्वीट कर यह बताया कि कम समय में सिलेबस में बदलाव की वजह से कुछ गलतियां रह गई हैं, जिनको जल्द ही दूर कर लिया जाएगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned