script'Sherani', a female scientist who is helping the animals | मोटी तनख्वाह छोड़ पशुओं के आंसू पोछ रहीं महिला विज्ञानी शेरानी | Patrika News

मोटी तनख्वाह छोड़ पशुओं के आंसू पोछ रहीं महिला विज्ञानी शेरानी

- पुरस्कार स्वरूप मिले लाखों रुपए भी पशुसेवा में समर्पित

चेन्नई

Published: January 20, 2022 11:40:56 am

चेन्नई. आज समाज में ऐसे उदाहरण बिरले ही देखने को मिलते हैं जब कोई व्यक्ति पशुप्रेम के खातिर अपनी अच्छी खासी तनख्वाह वाली सरकारी नौकरी छोड़ दे। चेन्नई की महिला डा.शेरानी परेरा ने ऐसा कर देश दुनिया के लिए एक मिसाल पेश की है। शेरानी के पशुप्रेम की यह यात्रा बचपन से ही शुरू हो गई थी। एक बड़े बिजनेस परिवार से ताल्लुक रखने वाली परेरा मूल रूप से तमिलनाडु के तूतीकोरीन की रहने वाली हंै। इनके दादा का केरल में अच्छा व्यवसाय था। पूरा परिवार पशुप्रेमी था। दादा के पास घोड़े थे।
पिता से मिली प्रेरणा
वे बताती हैं पिता एक बार सड़क से श्वान को लाए तो भाई ने एक बीमार बिल्ली को घर लाकर उसकी देखभाल की। पिता ने उन्हें हमेशा नेचर (पशु पक्षी) से प्रेम करने की प्रेरणा। परेरा के मन में यही से पशुप्रेम का बीजांकुर हुआ। धीरे-धीरे यह उनका सपना हो गया। केरल में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद परेरा ने एग्रीकल्चर रिसर्च सर्विसेज की परीक्षा दी और उनका चयन इंडियन काउंसिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च में हो गया।
१९९४ से शुरू हुआ सफर
उनकी पहली पोस्टिंग 1993 में चेन्नई में हुई। 1994 में उनकी मुलाकात सुगालचंद जैन एवं सेतुवैद्यनाथन से हुई और फिर बीमार पशुओं व छुड़ाए हुए पशुओं के देखभाल का सिलसिला शुरू हो गया। पूलीयंतोप में बीमार श्वानों और उसके बाद रेडहिल्स में छुड़ाए गए पशुओं का देखभाल शुरू किया। अभी उत्तकोट्टै में शेल्टर की देखभाल कर रही हैं। केंद्र का संचालन पीपुल्स फॉर एनिमल चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। डा.शेरानी परेरा इस ट्रस्ट की प्रबंध न्यासी होने के साथ ही सह-संस्थापक भी हैं।
खर्च के लिए बनाई पेंटिंग
नौकरी से एक साल तक छुट्टी और उसके बाद लीव विदाउट सैलेरी पर रहते हुए पशु कल्याण के लिए काम किया। इस दौरान खर्च चलाने के लिए पेंटिंग तक बनाई। करीब 3 से 4 साल तक ऐसे ही खर्च चलाया। परेरा कहती हैं 1996 में उन्होंने वापस नौकरी जॉइन की। 2012 तक नौकरी की, इस बीच नौकरी एवं पशु सेवा दोनों साथ साथ चलती रही। 2012 में बीमार होने के बाद दोनों काम साथ साथ नहीं हो सकते थे उन्होंने नौकरी से वीआरएस ले लिया।
डेढ़ लाख की नौकरी छोड़ी
लगभग 21 साल तक उन्होंने वैज्ञानिक के रूप में अपनी सेवाएं दी। उस समय उनका वेतन डेढ़ लाख रुपए था। वे कहती हैं मुझे इसका दुख: नहीं हुआ। मेरा फैसला एकदम खरा था। मेरा लक्ष्य पशुओं की सेवा है। यह मेरा कर्म है। यही नहीं उन्होंने अपने पुरस्कार राशि के रूप में मिले 25 से 30 लाख रुपए पशुुकल्याण पर खर्च कर दिए।
मोटी तनख्वाह छोड़ पशुओं के आंसू पोछ रहीं महिला विज्ञानी शेरानी
मोटी तनख्वाह छोड़ पशुओं के आंसू पोछ रहीं महिला विज्ञानी शेरानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायानवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमतिSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.