scriptSrilanka Crisis : SL economy down makes TN lankans to move Tamilnadu | Srilanka Crisis : जब एक अंडा 29 रुपए और आलू 380 रुपए हो तो जगह छोडऩी ही पड़ती है... | Patrika News

Srilanka Crisis : जब एक अंडा 29 रुपए और आलू 380 रुपए हो तो जगह छोडऩी ही पड़ती है...

Srilanka Crisis : श्रीलंकाई तमिलों का दर्द, अब तक 75 लौटे

कर्ज का जाल और कमजोर मुद्रा से धड़ाम हुई श्रीलंका की अर्थव्यवस्था

चेन्नई

Published: May 04, 2022 05:19:53 pm

पी. एस. विजयराघवन

चेन्नई. गहने आभूषण बेचकर और बोरिया बिस्तर समेटे गुच्छों में श्रीलंका से तमिलों का पलायन दिन-ब-दिन बढऩे लगा है। यह राज्य की आर्थिक सेहत की दृष्टि से सही नहीं है तो सुरक्षा के नजरिए से भी आंखें बंद करने का विषय नहीं है। हालांकि मानवता के समक्ष यह सब मसले गौण हो जाते हैं इसलिए इनके आगमन को रोका नहीं जा रहा है। श्रीलंका से तमिल शरणार्थियों के पलायन का इतिहास दशकों पुराना है। लेकिन इस बार की वजह आतंक नहीं बल्कि महंगाई है जिसने लोगों को मुल्क छोडऩे पर विवश कर दिया है। तमिलनाडु के रामेश्वरम में इनके लिए शिविर स्थापित है। केंद्र सरकार से इनको बतौर वैध शरणार्थी अपनाने और बसाने के उपाय होने लगे हैं। तीन-चार मौकों को शामिल करते हुए अब तक ७५ शरणार्थी पिछले एक महीने में रामेश्वरम आए हैं।
श्रीलंका से आए शरणार्थियों का दर्द सुनने और समझने के लिए शब्दों की आवश्यकता नहीं है। उनके चेहरे और आंखें भर काफी है जो यह बता देती है कि वे कितने व्यथित और विचलित हैं। राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की सरकार को वे कोसते हैं और कहते हैं कि अंडा और दूध का पाउडर खरीदने तक उनके पास पैसे नहीं है।
Srilanka Crisis : जब एक अंडा 29 रुपए और आलू 380 रुपए हो तो जगह छोडऩी ही पड़ती है...
Srilanka Crisis : जब एक अंडा 29 रुपए और आलू 380 रुपए हो तो जगह छोडऩी ही पड़ती है...

81 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था
विशेषज्ञों के अनुसार 81 अरब डॉलर की श्रीलंकाई अर्थव्यवस्था लगभग चरमरा चुकी है। श्रीलंका को पुराना कर्जा चुकाने के लिए विदेशी भंडार का तीन गुना खर्च करना होगा। कर्ज के जाल से लेकर महंगाई तक, कई चीजों ने मौजूदा संकट में योगदान दिया। आलू और प्याज का प्रतिकिलो २२२ व ३८० रुपए तक पहुंच जाना स्पष्ट करता है कि महंगाई हद पार कर चुकी है। सूखी मिर्च की कीमत १२०० के पार है तो एक अंडा २९ रुपए में बिक रहा है। इन कीमतों की जानकारी अप्रेल के पहले सप्ताह में सेंट्रल बैंक ऑफ श्रीलंका ने दी थी। यूक्रेन संकट ने भी पड़ोसी देश में हालात और विकट कर दिए।

विश्व बैंक की नजर
विश्व बैंक श्रीलंका में अनिश्चित आर्थिक दृष्टिकोण और लोगों पर प्रभाव के बारे में बेहद चिंतित है। हम गरीब और कमजोर परिवारों को आर्थिक संकट का सामना करने में मदद करने के लिए आपातकालीन सहायता प्रदान करने पर काम कर रहे हैं। हम श्रीलंका में सतत और समावेशी विकास के लक्ष्य को लेकर ठोस उपाय करेंगे।
फारिस हदद-ज़र्वोस, विश्व बैंक के कंट्री डायरेक्टर श्रीलंका

तमिलनाडु में शरणार्थी और उपाय
- राज्य में ६७ शरणार्थी शिविरों में बसे हैं करीब ९० हजार शरणार्थी
- शिविरों में बसे परिवार के मुखिया को प्रतिमाह १५००, वयस्क सदस्य को १००० और बच्चों को ५०० रुपए दिए जाते हैं
- मौजूदा पलायित होकर आए तमिलों को अवैध अप्रवासी की श्रेणी में रखा गया है और केंद्र से इनको शरणार्थी का दर्जा दिए जाने के बारे में लिखा गया है
- सरकार इनको शरणार्थी का दर्जा दिलाने के लिए विधिवेताओं की राय ले रही है
- इन शिविरों का कल्याण बजट ३१७ करोड़ का है
डूबी अर्थव्यवस्था के घटक
- श्रीलंका के पास लगभग दो बिलियन अमरीकी डालर का विदेशी मुद्रा भंडार है, जबकि वर्ष 2022 में कुल बकाया ऋण सात बिलियन अमरीकी डॉलर पहुंच गया
- 2018 में श्रीलंका में विदेशी भंडार दस अरब अमेरिकी डॉलर के करीब था। यह 2021 में दो बिलियन अमरीकी डालर तक कम हो गया।
- अपे्रल के पहले सप्ताह में श्रीलंकाई मुद्रा अमरीकी डॉलर की तुलना में ३१० रुपए थी। 1 जनवरी से 31 मार्च के बीच श्रीलंकाई रुपये में भारतीय रुपये के मुकाबले 31.6 प्रतिशत की गिरावट आई है।
- घरेलू सामानों, विशेष रूप से खाद्य पदार्थों की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। चावल की खुदरा कीमत एक साल पहले के स्तर से 60 प्रतिशत अधिक थी, जबकि प्याज की कीमत 79 प्रतिशत और अंडा तो कई गुना महंगा हो गया।
पूरी जांच पड़ताल के बाद प्रवेश
श्रीलंकाई तमिलों के आने का यह प्रसंग पहले की तरह नहीं है जब पड़ोसी देश में लिट्टे हावी था। इससे तमिलनाडु की कानून-व्यवस्था पर कोई विपरीत असर नहीं पड़ेगा। हां, इनकी बसावट और सहायता पर होने वाले से राज्य के खजाने पर बोझ जरूर पड़ेगा। श्रीलंका से आने वाले शरणार्थियों को अनुमति देने से पहले पुलिस और राजस्व विभाग पूरी तरह व्यक्ति विशेष की कुंडली खंगालता है।
- सांगाराम जांगिड़, पूर्व पुलिस महानिदेशक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Azam Khan Release: दो साल बाद जेल से रिहा हुए आजम खान, दोनों बेटों ने किया रिसीव, शिवपाल भी पहुंचेGyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी में शिवलिंग के दावे के बीच आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई कोExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंJammu Kashmir: रामबन में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा ढहा, 7 लोग फंसे, रेस्क्यू ऑपरेशन जारीभाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: नड्डा ने दिया एकजुटता का संदेश, आज पीएम मोदी बताएंगे जीत का फॉर्मूलाGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.