scriptSrilankan Tamil women arrived as a refugee in a private boat with chil | श्रीलंका में आर्थिक संकट के बीच शरणार्थियों का भारतीय तटों की ओर आना जारी, शरणार्थी मां, बच्चे तमिलनाडु पहुंचे | Patrika News

श्रीलंका में आर्थिक संकट के बीच शरणार्थियों का भारतीय तटों की ओर आना जारी, शरणार्थी मां, बच्चे तमिलनाडु पहुंचे

वार्शिनी ने यह भी कहा कि उसने भारत की यात्रा करने के लिए नाव के मालिक को 2.5 लाख श्रीलंकाई रुपए का भुगतान किया

चेन्नई

Published: April 20, 2022 07:24:30 pm

चेन्नई.

श्रीलंका में आर्थिक संकट के बीच इस द्वीपीय देश से शरणार्थियों का भारतीय तटों की ओर आना जारी है। बुधवार को एक श्रीलंकाई महिला और उसके दो बच्चे तमिलनाडु के धनुषकोडी पहुंचे। स्थानीय मछुआरों ने तमिलनाडु के समुद्री पुलिसकर्मियों को श्रीलंकाई महिला के अपने बच्चों के साथ आने की सूचना दी।

Srilankan Tamil women arrived as a refugee in a private boat with children
Srilankan Tamil women arrived as a refugee in a private boat with children

चूंकि उनके पास कोई वैध दस्तावेज या कागजात नहीं थे, इसलिए उन्हें अरिचल पर्वत से रामेश्वरम के समुद्री पुलिस थाने में लाया गया और पुलिस ने उनसे पूछताछ की। पुलिस सूत्रों ने बताया कि महिला वार्शिनी (37) और उसके बच्चे नैनिका (11) और रंगसन (4) श्रीलंका के बट्टिकलोआ के रहने वाले हैं। जांच अधिकारियों के अनुसार, महिला ने उन्हें बताया था कि उसने एक नाव मालिक को भारतीय तटों पर अवैध रूप से भेजने के लिए 2.5 लाख श्रीलंकाई रुपए का भुगतान किया था।

उसने कहा कि उन्होंने मंगलवार को सुबह 10 बजे मन्नार की खाड़ी से यात्रा शुरू की और बुधवार की सुबह पहुंचे। मां और बच्चों को मंडपम शरणार्थी शिविर में रखा गया है।

वार्शिनी ने मंडपम शरणार्थी शिविर में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा, न केवल कीमत में वृद्धि हुई है, बल्कि हमारे देश में आवश्यक वस्तुएं अब दुर्लभ हैं। एक अंडे की कीमत 50 रुपए है और हमें बढ़ी हुई कीमत देने पर भी दूध पाउडर नहीं मिल रहा है। दो बच्चों की मां के रूप में मुझे श्रीलंका में रहना मुश्किल लगता है और बेहतर जीवन जीने के लिए हमने भारत पहुंचने का बड़ा जोखिम उठाया है।

वार्शिनी ने यह भी कहा कि उसने भारत की यात्रा करने के लिए नाव के मालिक को 2.5 लाख श्रीलंकाई रुपए का भुगतान किया और यह रकम जुटाने के लिए उसने अपने आखिरी सोने के गहने भी बेच दिए। महिला ने कहा कि वह और उसके बच्चे भारत आने के लिए नाव का मन्नार की खाड़ी में तीन दिनों तक इंतजार करते रहे।

वार्शिनी और उसके दो बच्चों के आने के साथ भारतीय तटों पर पहुंचे श्रीलंकाई शरणार्थियों की संख्या 42 तक पहुंच गई है। ये सभी तमिलनाडु के मंडपम में रह रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics Crisis: शिवसेना की कार्यकारिणी बैठक खत्म, जानें कौन-कौन से प्रस्ताव हुए पारितMaharashtra Political Crisis: आदित्य ठाकरे का बागी विधायकों पर निशाना, कहा- नहीं भूलेंगे विश्वासघात, हमारी जीत तय हैMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में सियासी उलटफेर का खेल जारी, बागी विधायकों को डिप्टी स्पीकर ने जारी किया नोटिसBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजाAmarnath Yatra: अमरनाथ यात्रा से 4 दिन पहले प्रशासन अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदमMumbai News Live Updates: महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल के खिलाफ नया अविश्वास प्रस्ताव पेशMaharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.