किरण बेदी को हटाने का निर्णय लिया गया देर में: स्टालिन

डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन ने बुधवार को आरोप लगाया कि पुदुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी को उप राज्यपाल के पद से हटाने का निर्णय काफी देरी में लिया गया।

By: Vishal Kesharwani

Published: 17 Feb 2021, 08:04 PM IST


चेन्नई. डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन ने बुधवार को आरोप लगाया कि पुदुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी को उप राज्यपाल के पद से हटाने का निर्णय काफी देरी में लिया गया। स्टालिन ने कहा संविधान के शासन को पटरी से उतारने और लोकतंत्र का उपहास करने के बाद भी उन्हें इतने लंबे समय तक इस पद पर बनाए रखना एक बड़ी भूल थी। यहां जारी एक विज्ञप्ति में उन्होंने आरोप लगाया कि बेदी ने कभी भी विधिवत निर्वाचित सरकार को कार्य करने की अनुमति नहीं दी, बल्कि दिन प्रतिदिन संकट पैदा करती रही।

 

विधानसभा चुनाव से ठीक तीन महीने पहले केंद्र की भाजपा सरकार ने बेदी को हटाया है जो कि एक बहुत बड़ी नाटक है, क्योंकि केंद्र ने बेदी को एक प्रतिद्वंंद्वी मुख्यमंत्री के रूप में कार्य करने की अनुमति दी और पुदुचेरी के विकास को अपंग बना दिया। उन्होंने कहा कि इस समय बेदी को निकाल कर पुदुचेरी की जनता के साथ धोखा भी किया गया है। पुदुचेरी की जनता भाजपा, जिन्होंने गंदी राजनीतिक करने में बेदी का इस्तेमाल किया है, को कभी माफ नहीं करेगी।

 


-ईंधन की कीमतो में वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन की घोषणा
स्टालिन ने ईंधन के बढ़ते कीमतों का विरोध करते हुए राज्यव्यापी प्रदर्शन की घोषणा की। एक दूसरी विज्ञप्ति जारी कर उन्होंने कहा आगामी 22 फरवरी को राज्य भर के जिला मुख्यालयों में पार्टी जिला सचिवों के नेतृत्व में प्रदर्शन आयोजित की जाएगी। इससे पहले डीएमके ने आगामी विधानसभा चुनाव को गंभीरता से लेते चुनाव लडऩे के इच्छुक सदस्यों से आवेदन लेने की प्रक्रिया शुरू की।

 

पार्टी की घोषणा उस वक्त सामने आई है जब हाल ही में पार्टी महासचिव दुरैमुरुगन ने कहा था कि टिकट प्राप्त करने के इच्छुक सदस्य 17 से 24 फरवरी के बीच 1 हजार रूपए से भरे हुए आवेदन फॉर्म को जमा कर सकते हैं। सामान्य निर्वाचन क्षेत्र का शुल्क 25 हजार रूपए है, जबकि महिलाओं और आरक्षित वर्गों के लिए यह 15 हजार है।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned