scriptStalin launches homes to Sri Lankan Tamils | मुख्यमंत्री ने श्रीलंकन तमिलों के लिए घरों का किया शुभारंभ | Patrika News

मुख्यमंत्री ने श्रीलंकन तमिलों के लिए घरों का किया शुभारंभ

मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने मंगलवार को वेलूर के अब्दुल्लापुरम में पुनर्वास शिविर में तमिलनाडु में श्रीलंकाई तमिल शरणार्थियों

चेन्नई

Published: November 02, 2021 06:10:22 pm


चेन्नई. मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने मंगलवार को वेलूर के अब्दुल्लापुरम में पुनर्वास शिविर में तमिलनाडु में श्रीलंकाई तमिल शरणार्थियों के लिए घर बनाने के एक कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इसके अलावा श्रीलंकाई तमिलों के लिए घोषित 10 परियोजनाओं को भी लागू किया गया। इस मौके पर पत्रकारों से वार्ता में सीएम ने कहा राज्य सरकार श्रीलंकाई तमिल भाई बहनों के लिए कल्याणकारी योजना सुनिश्चित करेगी। श्रीलंकाई तमिलों की हर संभव मदद की जाएगी। उनके कल्याण को देखते हुए ही विभिन्न योजनाओं को लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा पिछले दस साल के शासनकाल के बावजूद तत्कालिन एआईएडीएमके सरकार ने श्रीलंकाई तमिलों के लिए एक भी योजना लागू नहीं की। लेकिन डीएमके की सत्ता आते ही विभिन्न योजनाएं लागू कर दी गई।

मुख्यमंत्री ने श्रीलंकन तमिलों के लिए घरों का किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री ने श्रीलंकन तमिलों के लिए घरों का किया शुभारंभ

स्टालिन ने पिछले बजट सत्र में घोषणा की थी कि 231.५४ करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से शरणार्थी शिविरों में लगभग ७ हजार 469 जीर्ण शीर्ण घरों का पुनर्निर्माण किया जाएगा। पहले चरण में 108 करोड़ की लागत से 3 हजार 510 घरों का निर्माण होगा। दीपावली से पहले शुरू होने वाली कल्याणकारी योजनाओं में सेलम स्टील प्लांट से पांच प्रकार के बर्तनों का वितरण और सभी शरणार्थी परिवार के सदस्यों को कोप्टेक्स ड्रेसेस देना भी शामिल है। इसके अलावा शिविरों के अंदर और बाहर रहने वाले 18 हजार श्रीलंकाई तमिल परिवारों को मुफ्त एलपीजी सिलेंडर का वितरण एक अग्रणी रणनीति होगी। सरकार ने एक वर्ष में प्रति परिवार पांच सिलेंडर के लिए प्रति सिलेंडर 400 रुपए सब्सिडी के साथ मुफ्त सिलेंडर और गैस स्टोव प्रदान करने का प्रस्ताव रखा है।

वेलूर शिविर में 3 हजार 500 व्यक्ति हैं, जो मुख्य रूप से उत्तरी प्रांत के मन्नार और पूर्वी प्रांत के त्रिंकोमाली के श्रीलंकाई तमिल हैं। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक शरणार्थी परिवार के मुखिया के लिए नकद सहायता और 12 वर्ष और उससे अधिक आयु के प्रत्येक अतिरिक्त सदस्य और 12 वर्ष तक के बच्चों के लिए एक अलग सहायता दी जाती है। इसके अलावा श्रीलंकाई तमिलों को सभी कल्याणकारी योजनाओं में शामिल भी किया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करप्रधानमंत्री 5 फरवरी को हैदराबाद में रामानुजाचार्य की 216 फुट ऊंची प्रतिमा का करेंगे अनावरण, 120 किलो सोने से बनी है ये प्रतिमातीन तलाक मामला-फोन पर बोला और तोड़ दिया रिश्ताAadhaar Card में अपडेट करना चाहते हैं नया मोबाइल नंबर, फॉलो करें यह आसान तरीका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.