Tamilnadu: स्टार्टअप को प्रोत्साहित कर रही आईआईटी-मद्रास की ई-समिट

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मद्रास (IITM) की उद्यमिता प्रकोष्ठ के तत्वावधान में ई-समिट के माध्यम से कई नए उद्यमियों व स्टार्टअप को प्रोत्साहन मिल रहा है।

By: Ashok Rajpurohit

Published: 03 Feb 2020, 08:06 PM IST

चेन्नई. भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मद्रास की उद्यमिता प्रकोष्ठ के तत्वावधान में ई-समिट के माध्यम से कई नए उद्यमियों व स्टार्टअप को प्रोत्साहन मिल रहा है। स्टार्टअप को यहां एक ऐसा वातावरण देने का प्रयास भी किया जाता है जहां वे अपने नए उत्पादों को प्रदर्शित कर सकें और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकें। इस बार भी प्रिस्टीन इनेर्जिया, वाईएनओएस, कोस्क्स एवं राजली इलेक्टोनिक्स एंड इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड को इस समिट में लांच किया गया। प्रिस्टीन एनेर्जिया एक दहन एवं गैसीकरण केे क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा।

स्टार्टअप काफी बेहतर साबित
आर्थिक एवं ऊर्जा सुरक्षा मुहैया करवाने में यह स्टार्टअप काफी बेहतर साबित हो सकता है। इस स्टार्टअप ने अखिल भारतीय पर्यावरण एवं ऊर्जा नवाचार को लेकर आयोजित उद्यमिता प्रतियोगिता में भी शीर्ष स्थान हासिल किया था। इसके संस्थापक सैयद मुगीस ने भरोसा दिलाया कि वे प्रदूषण मुक्त तकनीक उपलब्ध कराएंगे।

मोबाइल एप एवं वेबसाइट के माध्यम से शिक्षण सामग्री
राजली इलेक्ट्रोनिक्स एंड इनोवेशंस सॉफ्टवेयर संबंधी समाधान मुहैया करवाता है। इनमें वेब डिजाइनिंग, ऐप डवलपमेन्ट एवं डिजीटल मार्केटिंग शामिल है। यहां इसे नॉलेज मैनेजमेन्ट सिस्टम मिशन नाम दिया गया है जो मोबाइल एप एवं वेबसाइट के माध्यम से स्कूल एवं कॉलेज के लिए शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराता है।
इसी तरह कोस्क्स एक टेक स्टार्टअप है। यह भी व्यावसायिक समस्याओं का समाधान देता है। इसके तीन प्रोडक्ट लांच किए गए। इनमें गिग्ज ऐप, ऑफिशियली सिग्नल्स डॉट काम व एक्स-बिल्स शामिल हैं।

इनसाइट प्रोडक्ट लांच

वाईएनओएस एक ऐसा स्टार्टअप है जो नए उद्यमियों को डाटा एनेलायटिक्स, मशीन लर्निंग तकनीक उपलब्ध कराएगा। इस मौके पर इनसाइट प्रोडक्ट लांच किया। वाईएनओएस के संस्थापक तिलै राजन ने कहा कि यह स्टार्टअप उद्यमियों के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकेगा।

उद्यमिता को बढ़ावा देने का प्रयास
आईआईटी-मद्रास में हर साल ई-समिट का आयोजन किया जाता है जिसके माध्यम से उद्यमिता को बढ़ावा देने का प्रयास होता है। इसका मकसद यही है कि छात्र समुदाय के साथ ही संभावित उद्यमियों को प्रोत्साहित व प्रेरित किया जाए। साथ ही समाज को समाधान सुलभ हो सकें।

यूथ को भागीदार बनाने का प्रयास

इसके जरिए नए उद्यमियों के साथ ही, तकनीकी एवं यूथ को भागीदार बनाने का प्रयास किया जाता है। ई-समिट के माध्यम से उद्यमिता को लेकर विचारों का आदान-प्रदान किया जाता है। इस बार की ई-समिट में डिजीटल पर विशेष फोकस रखा गया।

हर साल निखार ला रहा

ई-समिट हर साल निखार ला रहा है। इसके माध्यम से अब नए लोगों को उद्यम के प्रति अधिक आकर्षित करने के लगातार प्रयास हो रहे हैं। यह ई-समिट हर एक को उद्यम के प्रति प्रेरित करने का काम कर रहा है। नए उद्यमियों, पुराने छात्रों, विशेषज्ञों, निवशकों से मिलने का मौका तो मिलता ही है साथ ही नवाचार व समस्याओं को सुलझाने की दिशा में भी पहल होती है।

Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned