स्टरलाइट प्लांट का विरोध जारी रहेगा : वाइको

तुत्तुकुड़ी स्टरलाइट प्लांट के पक्ष में एनजीटी द्वारा गठित समिति की अनुशंसा रिपोर्ट पर राजनीतिक दलों ने कड़ी आपत्ति जताई है। एमडीएमके ने जहां ...

By: मुकेश शर्मा

Published: 30 Dec 2018, 11:25 PM IST

चेन्नई।तुत्तुकुड़ी स्टरलाइट प्लांट के पक्ष में एनजीटी द्वारा गठित समिति की अनुशंसा रिपोर्ट पर राजनीतिक दलों ने कड़ी आपत्ति जताई है। एमडीएमके ने जहां प्लांट का विरोध जारी रखने की घोषणा की है वहीं पीएमके का कहना है कि सरकार ने इस मसले पर जनता के साथ धोखा किया है।

एमडीएमके महासचिव वाइको ने बुधवार को जारी प्रतिक्रिया में स्पष्ट कर दिया कि स्टरलाइट प्लांट के खिलाफ उनका प्रदर्शन नहीं रुकेगा।उन्होंने कहा कि मेघालय हाईकोर्ट के पूर्व प्रधान जज तरुण अग्रवाल की अध्यक्षता वाली तथ्य अन्वेषण समिति के प्लांट को बंद किए जाने को प्राकृतिक न्याय के खिलाफ बताने से उनको कोई हैरानी नहीं हुई है।

वाइको ने कहा कि इस समिति ने जब सुनवाई की थी तब वे उनके साथ थे। समिति के समक्ष उन्होंने दो घंटे तक नजीरें पेश की थी लेकिन उनको पता था कि उसकी रिपोर्ट प्लांट को खोलने की अनुशंसा करेगी।
एमडीएमके प्रमुख ने स्मरण कराया कि वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने मीडिया से वार्ता में कहा था कि इस प्लांट को खोलने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने बताया कि वे २२ साल से प्लांट के खिलाफ प्रदर्शनरत हैं तथा हाईकोर्ट में भी याचिका दायर कर इसे बंद कराने का आदेश लिया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उच्च न्यायालय के निर्णय को निरस्त कर दिया था। पहले प्लांट को बंद करने की सुनवाई एनजीटी की दक्षिणी कमान में हो रही थी फिर अचानक इसका तबादला नई दिल्ली कर दिया गया। ऐसे में शक होता है कि पूर्व जज गोयल की अध्यक्षता वाली समिति ने सही पड़ताल की अथवा नहीं।

वाइको ने आरोप लगाया कि वेदांता समूह को केंद्र सरकार का समर्थन प्राप्त है। इसी वजह से वेदांता को कावेरी तट पर दो हाइड्रो कार्बन प्रोजेक्ट्स की अनुमति भी दे दी गई है। तमिलनाडु को किसी भी मोर्चे पर इंसाफ नहीं मिल रहा है लेकिन स्टरलाइट प्लांट को स्थाई रूप से बंद किए जाने तक हमारा विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

रामदास का ट्वीट

पीएमके संस्थापक डा. एस. रामदास ने ट्वीट कर इस मसले पर क्षोभ जताया। उन्होंने कहा कि स्टरलाइट प्लांट बंदी के खिलाफ तथ्य खोजो समिति ने रिपोर्ट दी है। यह रिपोर्ट पहले से ही अपेक्षित थी। जैसा कि मैंने पहले ही कहा था कि नए साल पर प्लांट खुल जाएगा। बस यही कहना चाहूंगा कि सरकार ने जनता के साथ विश्वासघात किया है जिनका दावा था कि अंतर्राष्ट्रीय अदालत में भी चले जाने पर अब यह प्लांट नहीं खुलेगा।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned