विद्यार्थियों ने सीखे उद्यमिता के गुर

अरुम्बाक्कम स्थित डीजी वैष्णव कालेज में शुक्रवार का दिन एक अलग ही नजारा पेश कर रहा था। कालेज में बाजार लगा था, यह वैसा बाजार था जहां खरीदार भी विद्यार

By: मुकेश शर्मा

Published: 10 Feb 2018, 05:23 AM IST

चेन्नई।अरुम्बाक्कम स्थित डीजी वैष्णव कालेज में शुक्रवार का दिन एक अलग ही नजारा पेश कर रहा था। कालेज में बाजार लगा था, यह वैसा बाजार था जहां खरीदार भी विद्यार्थी और विक्रेता भी विद्यार्थी। लक्ष्य था नई पीढ़ी को बाजार के बारे में जानकारी देना। उनको उद्यमिता के गुर सिखाना। महानगर के कई कालेजों के विद्यार्थी इसमें उमड़ पड़े। अन्य स्टाल के साथ ही फूड स्टाल पर भीड़ अधिक देखने को मिली। विद्यार्थी उत्साहित थे सीखने को, बाजार के बारे में समझने को, साथ ही इस अवसर का सदुपयोग करने को।

कालेज के उद्यमिता विकास प्रकोष्ठ द्वारा लगाए गए इस वैष्णव बाजार 2018 का उद्घाटन राज्य अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य सुधीर लोढ़ा ने किया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को सदैव माता-पिता, गुरु का सम्मान करना चाहिए। जीवन में हमेशा सीखने की कोशिश करनी चाहिए। वैष्णव बाजार बहुत बड़ा प्लेटफार्म है, जहां विद्यार्थी अपनी क्षमता व व्यावसायिक कौशल साबित कर सकते हैं।


कालेज के सचिव अशोक कुमार मूंदड़ा ने कहा कि आज प्रतियोगिता का युग है। ऐसे में समाज में विद्यार्थियों को प्रायोगिक रूप से तैयार करना सबसे जरूरी है। शनिवार तक चलने वाले इस बाजार में 103 स्टाल लगाई गई हैं, इनमें 16 फूड स्टाल हैं। कोषाध्यक्ष अशोक केडिया, सुजाता, गायत्री, वसन्त, डा.मनोज सिंह, डा. जयदीप, डा. उमापति, डा. मुरुगन बाजार के सफल आयोजन में लगे हैं।

चंदन जैसा होता है सरल व्यक्ति

यहां विराजित साध्वी प्रतिभाश्री ने कहा सरल व्यक्ति चंदन जैसा होता है। उसे चाहे काटो, घिसो या जलाओ सुगंध ही देगा। इसका मतलब यह नहीं कि आप सज्जन को कष्ट पहुंचाएं। सरलता मनुष्य के स्वभाव से जन्म लेती है यह नैसर्गिक गुण है। इसे अर्जित नहीं सृजित करना होता है। सीखी-सिखाई सरलता में सरलता का दर्शन कम प्रदर्शन ज्यादा होता है। संचालन महामंत्री प्रफुल्ल कुमार कोटेचा ने किया।

बार काउंसिल चुनाव में नोटा हो विकल्प : हाईकोर्ट

मद्रास हाईकोर्ट ने शुक्रवार को बार काउंसिल का चुनाव कराने के लिए समिति के गठन का निर्देश दिया और इस चुनाव में नोटा को भी एक विकल्प के रूप में रखने का निर्देश दिया है। बार काउंसिल ऑफ तमिलनाडु एंड पुदुचेरी का चुनाव आगामी २८ मार्च को होना है। हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी और न्यायाधीश अब्दुल कुद्दोस ने अधिवक्ता आरमुगम की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश जारी किया। अधिवक्ता ने जनहित याचिका में मांग की थी कि बार काउंसिल के चुनाव में नोटा को भी एक विकल्प के रूप में शामिल किया जाय। उसने कहा कि जिस प्रकार विधानसभा व लोकसभा चुनावों में हमें मत देने का अधिकार है और प्रत्याशियों के खिलाफ नोटा को भी चुनने का हक है वैसाी ही सुविधा बार काउंसिल के चुनाव में भी होनी चाहिए।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned