एक लाख निशुल्क क्लोथ बैग वितरित करेंगे विद्यार्थी

राज्य सरकार 1 जनवरी से प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने जा रही है। इस कारण चेन्नई के कुछ युवाओं ने स्थानीय नागरिकों को सहायता करने की ठानी है। उनका उद्देश्य महानगर को प्लास्टिक मुक्त करना है। जय एवं प्रीत असवानी ने मिशन एक लाख की शुरुआत की है।

By: मुकेश शर्मा

Published: 30 Dec 2018, 12:23 AM IST

चेन्नई।राज्य सरकार 1 जनवरी से प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने जा रही है। इस कारण चेन्नई के कुछ युवाओं ने स्थानीय नागरिकों को सहायता करने की ठानी है। उनका उद्देश्य महानगर को प्लास्टिक मुक्त करना है। जय एवं प्रीत असवानी ने मिशन एक लाख की शुरुआत की है। उनका लक्ष्य 15 जनवरी तक एक लाख क्लोथ बैग का निशुल्क वितरण करना है ताकि लोग धीरे धीरे प्लास्टिक का प्रयोग बंद कर दें। 16 वर्षीय जय का कहना है कि हम पुराने बेडसीट, टेबल क्लोथ तथा तकिए का कवर एकत्रित कर रहे हैं।

इनको एकत्र करने के बाद रेहोबोथ (होम फार मेंटली चैलेंज्ड डेस्टीट्यूट वुमेन) को दिया जा रहा है जहां महिलाएं इनसे क्लोथ बैग बना रही है। इन महिलाओं को बैग बनाने के लिए प्रति बैग 5 रुपए दिए जाएंगे। लेकिन इन बैगों का वितरण निशुल्क किया जाएगा। इन भाइयों के संगठन का नाम बार्नटूवीन है। इस नई पहल के लिए उन्होंने होटलों से संपर्क किया और वहां से बेडसीट एकत्र किया गया। बच्चों के इस अभियान में माता पिता दीपक असवानी, वर्षा असवानी के साथ कल्पेश बोकडिय़ा समेत कई अन्य लोग सहयोग कर रहे हैं। अभियान का लक्ष्य लोगों में प्लास्टिक के प्रयोग से बचने की आदत डालना और उन्हें शिक्षित करना है। इससे प्लास्टिक मुक्त समाज का निर्माण होगा। स्ट्रीट वेंडर्स की इससे मदद की जा सकेगी।

डा. सुधा शेषय्यन बनीं नई कुलपति

तमिलनाडु डा. एम. जी. आर. मेडिकल विवि की नई कुलपति डा. सुधा शेषय्यन को बनाया गया है। राज्यपाल व कुलाधिपति बनवारीलाल पुरोहित ने शनिवार को तत्संबंधी आदेश जारी किए।
डा. सुधा ने राजभवन में राज्यपाल से भेंटकर विवि की कुलपति का नियुक्ति पत्र प्राप्त किया। तमिलनाडु डा. एम. जी. आर. मेडिकल विवि की कुलपति रहीं डा. सीतालक्ष्मी २७ दिसम्बर को रिटायर हुई थी। उनकी सेवानिवृत्ति के दो दिन बाद ही नया कुलपति तय कर दिया गया। डा. सुधा विवि की दसवीं कुलपति बन गई हैं।

विवि के नए कुलपति की चयन प्रक्रिया के तहत कुलाधिपति पुरोहित ने शुक्रवार को तीन संभावित प्रतिभागियों से साक्षात्कार किया था। यह तीन नाम विवि तलाश समिति ने सुझाए थे। इससे पहले समिति ने ४१ आवेदनों में से दस नाम को शॉर्टलिस्ट कर उनमें से तीन नाम की छंटनी की थी।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned