scriptSunflower Oil | सूरजमुखी आयातित तेल में से 80 फीसदी अकेले यूक्रेन से आता है | Patrika News

सूरजमुखी आयातित तेल में से 80 फीसदी अकेले यूक्रेन से आता है

भारत हर साल 1.7 मिलियन मीट्रिक टन सूरजमुखी तेल की खपत करता है और इसका 90 प्रतिशत तेल के रूप में आयात किया जाता है

चेन्नई

Published: February 27, 2022 01:08:01 am

चेन्नई. पश्चिमी देशों ने यूक्रेन पर रूस के हमले का जवाब देश के खिलाफ अभूतपूर्व दंडात्मक प्रतिबंधों के साथ दिया है। तमिलनाडु में फुटवियर उद्योग देश में निर्यात पर प्रतिबंधों के प्रभाव से चिंतित है। कारोबारियों का कहना है कि सूरजमुखी के तेल की कीमत भी, जो पिछले एक हफ्ते में 13 रुपए प्रति लीटर बढ़ी है, अगले कुछ हफ्तों में नई ऊंचाई पर पहुंच सकती है।
जैसा कि यूरोप और संयुक्त राज्य अमरीका द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के बारे में विवरण सामने आया, फुटवियर कंपनियों को अस्थायी राहत मिली क्योंकि वित्तीय प्रतिबंधों को मुख्य रूप से रूसी कुलीन वर्गों पर लक्षित किया गया था। फरीदा समूह के प्रबंध निदेशक इसरार अहमद के अनुसार, फुटवियर उद्योग पर प्रतिबंधों का प्रभाव कम से कम हो सकता है क्योंकि वे ज्यादातर हल्के हैं। उन्होंने कहा, यूक्रेन के लिए कंटेनर की आवाजाही को छोड़कर हम बड़े व्यवधान की उम्मीद नहीं करते हैं।
कई कंपनियां अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित हो सकती हैं
रूस भारत का एक महत्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार है। हालांकि प्रतिबंधों का प्रत्यक्ष प्रभाव कम से कम हो सकता है। कई कंपनियां अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित हो सकती हैं क्योंकि रूस ने भारत में निर्मित और अन्य देशों से निर्यात किए जाने वाले बहुत से अंतरराष्ट्रीय उत्पादों का उपभोग किया है। प्रतिबंध सूरजमुखी तेल उद्योग को भी गंभीर रूप से प्रभावित कर सकते हैं, और उपभोक्ताओं को जल्द ही लोकप्रिय खाना पकाने के तेल को खरीदने के लिए और अधिक खर्च करना पड़ सकता है। तिलहन आयात करने वाली एसीएसईएन हाईवेग के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक एस सेंथिलनाथन कहते हैं, ऊंची कीमतों के लिए तैयार हो जाइए। भारत हर साल 1.7 मिलियन मीट्रिक टन सूरजमुखी तेल की खपत करता है और इसका 90 प्रतिशत तेल के रूप में आयात किया जाता है जबकि 2,500 मीट्रिक टन से 3,500 मीट्रिक टन बीज के रूप में आयात किया जाता है।
तमिलनाडु हर साल 2.53 लाख मीट्रिक टन सूरजमुखी तेल की खपत करता है
सेंथिलनाथन कहते हैं, आयातित तेल में से 80 फीसदी अकेले यूक्रेन से आता है। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु हर साल 2.53 लाख मीट्रिक टन सूरजमुखी तेल की खपत करता है। सेंथिलनाथन ने कहा कि पूरे भारत में सूरजमुखी की खेती कम है और इसलिए तेल निकालने के लिए बीजों की उपलब्धता भी कम है। उन्होंने यह भी आगाह किया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में गेहूं, कपास और अन्य कृषि उत्पादों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि होगी क्योंकि यूक्रेन इन फसलों का एक प्रमुख उत्पादक है।
Sunflower Oil
Sunflower Oil

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

लगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआरUP Budget 2022 : देश में पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट और पांच एटीएस वाला यूपी पहला राज्य, होंगी ये बड़ी सुविधाएंराष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI ने झारखंड के पूर्व खेल मंत्री के आवास पर मारा छापाIRCTC 21 जून से शुरू करेगी श्री रामायण यात्रा स्पेशल ट्रेन, जानिए इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारीIPL में MS Dhoni, Rohit Sharma, Virat Kohli हुए 150 करोड़ के पार, कमाई जानकर आप हो जाएंगे हैरानसुप्रीम कोर्ट ने सेक्स वर्क को भी माना प्रोफेशन, पुलिस नहीं करेगी परेशान, जारी किए निर्देशजर्मनी ने 'Covaxin' को दी मंजूरी, यात्रा करने वाले लाखों लोगों को नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेटमहंगाई पर आज केंद्र की बड़ी बैठक, एग्री सेस हटाने और सीमेंट के दाम कम करने पर रहेगा जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.