जबरन फीस की मांग करने वाले निजी स्कूलों के खिलाफ हो कार्रवाई: रामदास

पीएमके संस्थापक एस. रामदास ने राज्य सरकार से कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के बीच अभिभावकों से जबरन फीस वसुलने वाली निजी स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

By: Vishal Kesharwani

Published: 10 May 2020, 04:24 PM IST


चेन्नई. पीएमके संस्थापक एस. रामदास ने राज्य सरकार से कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के बीच अभिभावकों से जबरन फीस वसुलने वाली निजी स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि स्थिति को गंभीरता से लेते हुए सरकार द्वारा स्कूलों को फीस वसुली नहीं करने के दिए गए आदेश के बावजूद स्कूल नहीं मान रही है। यहां जारी एक विज्ञप्ति में रामदास ने आरोप लगाया कि बहुत सारे स्कूलों ने अभिभावकों से 15 मई तक फीस जमा करने को कहा है और चेतावनी भी दी है कि विद्यार्थियों को ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल नहीं किया जाएगा, जो कि सख्ती से निंदनीय है।

 

लॉकडाउन की वजह से बहुत सारे लोगों के आय का स्रोत ठप हो गया है, ऐसे में उन पर फीस भुगतान करने का दबाव बनाना सही नहीं है, खास कर उस वक्त जब लोगों को पता ही नहीं है हालात सामान्य कब होंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना की गंभीर स्थिति तक वे निजी स्कूल प्रबंधकों से फीस वसुली नहीं करने का आग्रह करते हैं। उल्लेखनीय है कि परिस्थिति को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार ने राज्य की सभी स्कूलों को अभिभावकों से जबरन फीस वसुली नहीं करने का आदेश दिया था।

Corona virus COVID-19 COVID-19 virus
Show More
Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned