Tamil Nadu Assembly Election 2021: कोल्ड स्टोरेज सुविधाओं की कमी, नहीं मिल रहा हल्दी का पूरा पारिश्रमिक

Tamil Nadu Assembly Election 2021:

तीन नदियों के बावजूद इरोड इलाके में लोग पानी को लेकर तरस रहे हैं। पेरियार की जन्मस्थली में द्रविड़ दलों में इस बार कांटे के मुकाबले के आसार है।

By: Ashok Rajpurohit

Published: 17 Mar 2021, 08:49 PM IST

इरोड (तमिलनाडु). दिया तले अंधेरे की कहावत यहां चरितार्थ होती है। कहने को तीन नदियां यहां से गुजरती है लेकिन फिर भी इलाका प्यासा है। कावेरी, अमरावती और नोय्यल तीन नदियां इसी इलाके से गुजरती है। बावजूद लोग पानी के लिए तरस रहे हैं। कावेरी व नोय्यल जहां डाईंग इकाइयों के चलते प्रदूषित हो चुकी है तो अमरावती पर खनन माफिया की नजर लग चुकी है। हालत यह है कि इरोड लोकसभा क्षेत्र में आने वाले छह में से तीन विधानसभा क्षेत्र पानी की कमी से जूझ रहे हैं।
हालांकि सुखद पक्ष यह भी है कि हल्दी के लिए समूचे देश में प्रसिद्ध इरोड कृषि क्षेत्र के रूप में काफी समृद्ध जिलों में शुमार है। गन्ना एवं नारियल की भी खूब खेती होती है। किसानों का कहना है कि प्रदूषण, पानी की कमी और कृषि-आर्थिक नीतियों के कारण कृषि पर असर पड़ा है। कावेरी नदी के किनारे बसा इरोड हल्दी व बुने हुए वस्त्रों के उत्पादन के लिए जाना जाता है। अपने वस्त्र उद्योग, हथकरघा उत्पादों और तैयार कपड़ों के लिये प्रसिद्ध इरोड भारत के टेक्सवैली या लूम सिटी ऑफ इण्डिया के नाम से भी जाना जाता है। चद्दरें, लुंगियाँ, तौलिये, सूती साड़ियाँ, धोतियाँ, गलीचे और प्रिन्ट किए कपड़े थोक दामों में यहाँ बेचे जाते हैं। ये उत्पाद विश्व के बाकी हिस्सों में निर्यात भी किए जाते है। किसानों का कहना है कि उन्हें हल्दी का पर्याप्त पारिश्रमिक नहीं मिल रहा है। पर्याप्त कोल्ड स्टोरेज सुविधाएं नहीं हैं और पीले मसाले की खेती में भारी गिरावट आ रही है। यहां तक कि गन्ना उत्पादकों को भी कम रिटर्न मिल रहा है।
कई रंगाई इकाइयां
कुछ दशक पहले कुमारपालयम विधानसभा (Vidhaansabha chunav} क्षेत्र में रंगाई इकाइयाँ स्थापित की गई थीं। कावेरी के किनारे कई और इकाइयां स्थापित हो गई। किसानों के एक वर्ग ने अपनी इकाइयों को रंगाई इकाइयों के लिए पट्टे पर दे दिया, जिनमें से अधिकांश अवैध थीं। ये छोटी इकाइयां हैं। किसान कहते हैं, वे तिरुपुर जैसे ट्रीटमेंट प्लांट नहीं लगा सकते। हालांकि तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का दावा है कि वह इस तरह की अवैध रंगाई इकाइयों को बंद करने के लिए निरंतर अभियान चला रहा है। इरोड और इसके आसपास के पर्यटक स्थल साल भर तीर्थयात्रियों से भरे रहते हैं। भ्रमण किये जाने वाले शहर के प्रसिद्ध मन्दिरों में थिंडल मुरुगन मन्दिर, पेरिमरियम्मन मन्दिर व अरूद्र कबालीस्वरार मन्दिर प्रमुख हैं। भवानी सागर बाँध और कोदीवेरी बाँध लोकप्रिय बाँध हैं। अन्य पर्यटक स्थलों में पेरियार स्मारक हाउस, वेलोड पक्षी विहार शामिल हैं।
द्रविड़ दलों की पसंदीदा जगह
पेरियार की जन्मस्थली होने के कारण द्रविड़ दलों की पसंदीदा जगह मानी जाती है। इलाके में मतदाता अक्सर जाति के आधार पर उम्मीदवारों को चुनते रहे है। इस बार भी जातिगत राजनीति दिखाई दे रही है। इस बार जहां एआईएडीएमके नीत गठबंधन का सीधा मुकाबला डीएमके गठबंधन से है। लेकिन कमल हासन की पार्टी मक्कल निधि मय्यम एवं एआईएडीएमके से अलग हुए दिनाकरण की पार्टी एएमएमके भी मतदाताओं को लुभाने की पूरी कोशिश में लगे हैं। राजनीतिक विरासत बचाने को लेकर भी इस बार जंग होती दिख रही है। एक तरफ मुख्यमंत्री एडपाडी पलनीस्वामी जहां जयललिता के राजनीतिक उत्तराधिकारी बनने की दौड़ में है तो करुणानिधि के बेटे एम.के. स्टालिन भी राजनीतिक विरासत की जंग जीतना चाहते हैं। भाजपा लगातार डीएमके एवं कांग्रेस पर भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जमकर वार करती दिख रही है।
कई शासकों के अधिन रहा
इरोड नाम की उत्पत्ति ईरा ओडू शब्द से हुई है जिसका अर्थ होता है नम नरमुण्ड। 850 ई0 तक इरोड शहर कार शासकों के अधीन था। 1000 ई0 से 1275 ई0 तक शहर में चोल वंश के शासकों का शासन था। बाद में 1276 ई0 से यह पदियार के अधिकार में रहा। इस दौरान वीरपांडियन राजा ने कलिंगार्यन गुफा की खुदाई को शुरू करवाया। इसके बाद मुस्लिम शासकों का दौर आया जिनके बाद मदुरै के राजाओं ने शासन किया। शहर पर टीपू सुल्तान और हैदर अली के शासन के बाद 1799 ई0 में ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने इस पर कब्जा कर लिया।
इरोड लोकसभा क्षेत्र के अधीन छह विधानसभा क्षेत्र व मौजूदा विधायक

Taml Nadu Assembly Election 2021:
कुमारपालमय - पी. तंगमणि (एआईएडीएमके)
इरोड (पूर्व)- के.एस. तेनारसु (एआईएडीएमके)
इरोड (पश्चिम) - के.वी. रामलिंगम (एआईएडीएमके)
मोदाकुरिचि- वी.पी.शिवसुब्रह्मणि (एआईएडीएमके)
धारापुरम (एससी)- वी.एस. कालीमुत्थु (कांग्रेस)
केंगेयम - यू. तनियरसु (एआईएडीएमके)

Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned