बच्चे ने ऑनलाइन गेम्स में मां के 90 हजार किए खर्च

जिले के एक गांव में 12 वर्षीय बच्चे के अभिभावक उस वक्त आश्चर्यचकित रह गए जब उन्हें पता चला कि उसने ऑनलाइन गेम्स के चक्कर में पिछले तीन महीने के अंदर अपनी मां के खाते से 90 हजार रूपए खर्च कर दिए हैं।

By: Vishal Kesharwani

Published: 20 Sep 2020, 04:39 PM IST


-पिता के सबक के बाद छोड़ा
रामनाथपुरम. जिले के एक गांव में 12 वर्षीय बच्चे के अभिभावक उस वक्त आश्चर्यचकित रह गए जब उन्हें पता चला कि उसने ऑनलाइन गेम्स के चक्कर में पिछले तीन महीने के अंदर अपनी मां के खाते से 90 हजार रूपए खर्च कर दिए हैं। इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब हाल ही में महिला एटीएम से पैसे निकालने के लिए गई थी। दंपति ने बताया कि कोरोना महामारी के बाद शुरू हुए लॉकडाउन के कारण बच्चे को एक गेम खेलने में व्यस्त किया गया था, क्योंकि बाहर जाकर कोरोना संक्रमित होने से बेहतर घर पर रहकर गेम खेलना था। मेलाकीडरम निवासी बच्चे के पिता सेंथिल कुमार, जो पेशे से ई सेवा सेंटर चलाते हैं, ने बताया खाते में कुल 97 हजार रूपए थे जिसमें से 90 हजार का वे गेम खेल गया।

 

हालांकि डर की वजह से पहले तो उसने कहा कि उसे नहीं पता है, लेकिन बाद में उसने खुल कर सारी बाते बता दी। उन्होंने कहा कि मेरी पत्नी ऑनलाइन प्रोडक्ट ऑर्डर करने के लिए बच्चे का हेल्प लेती थी। इस प्रकार से बच्चा, जो सातवीं पास है, को ऑनलाइन भुगतान करने के बारे में पता चल गया। चूंकि उसके पास ही एटीएम था जिसके लिए किसी को पता ही नहीं चला। पैसा निकालने के बाद मोबाइल पर आने वाले सभी संदेश को वे डिलीट कर देता था ताकि किसी को पता न चल पाए। सेंथिल कुमार ने बताया इतना पैसा खर्च होने के बाद भी मैने अपने बेटे पर हाथ नहीं उठाया, बल्कि उसे ऑनलाइन गेम के संकट से दूर करने की कोशिश की। मैने अपने बेटे को गलती की सजा के रूप में एक से 90 हजार तक के अंक लिखने को कहा। बच्चे ने लिखना शुरू किया और पांच दिनों में 3500 तक लिखने के बाद उसे कठिनाई समझ में आने लगी तो उसने कहा कि इसको लिखने के बजाय मै गेम खेलना छोड़ दूंगा।

COVID-19 virus
Show More
Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned