कोविड 19 के चलते सरकार ने कॉलेज विद्यार्थियों के बचे हुए परीक्षा को किया रद्द

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार ने बुधवार को अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को छोड़कर कॉलेज के सभी विद्यार्थियों के शेष परीक्षा को रद्द कर दिया।

By: Vishal Kesharwani

Updated: 26 Aug 2020, 05:11 PM IST


चेन्नई. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार ने बुधवार को अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को छोड़कर कॉलेज के सभी विद्यार्थियों के शेष परीक्षा को रद्द कर दिया। यहां जारी एक विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी ने कहा कि विद्यार्थियों की ओर से की गई मांग और विशेषज्ञ पैनल की सिफारिशों को ध्यान में रखते हुए अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों, जिन्होंने परीक्षा शुल्क का भुगतान कर दिया है, को छोड़कर कॉलेज के सभी विद्यार्थियों के बचे हुए परीक्षा को रद्द कर दिया गया है। इन परीक्षाओं के अंको को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) द्वारा दिए गए दिशानिर्देशों के आधार पर दिया जाएगा।

 

टर्मिनल परीक्षा लिखने वाले विद्यार्थियों को छोड़कर राज्य सरकार ने कोरोना महामारी के चलते पहले ही बीए, बीएससी, एमएससी, बीई, बीटेक, बी आर्च, एमई, एम टेक, एमसीए और डिप्लोमा कोर्सो के सभी विद्यार्थियों को अगले शैक्षणिक वर्ष के लिए ्रप्रमोट कर दिया था। सरकार द्वारा इन विद्यार्थियों को आंतरिक अंकों के लिए 70 प्रतिशत वेटेज और पिछले सेमेस्टर के आधार पर 30 प्रतिशत वेटेज के आधार पर अंक प्रदान किए गए थे। इससे पहले राज्य की उच्च शिक्षा विभाग ने वाइस चांसलरों के साथ समीक्षा बैठक कर शेष परीक्षाओं के आयोजन को लेकर चर्चा किया था। लेकिन कोरोना महामारी को देखते हुए वाइस चांसलरों ने भी परीक्षा को रद्द करने का सुझाव दिया।

COVID-19 COVID-19 virus
Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned