राज्य सरकार ने विरोधी सीएए प्रदर्शनकारियों व लॉकडाउन उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ दर्ज मामले को लिया वापस

मुख्यमंंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी ने शुक्रवार को विरोध सीएए (नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019) के खिलाफ किए गए प्रदर्शन और कोविड 19 लॉकडाउन मानदंडो के उल्लंघन करने वालों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने की घोषणा की।

By: Vishal Kesharwani

Updated: 19 Feb 2021, 06:39 PM IST


-मुख्यमंत्री ने की घोषणा
मदुरै. मुख्यमंंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी ने शुक्रवार को विरोध सीएए (नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019) के खिलाफ किए गए प्रदर्शन और कोविड 19 लॉकडाउन मानदंडो के उल्लंघन करने वालों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने की घोषणा की। यहां जारी एक विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साल 25 मार्च के बाद से तमिलनाडु सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिनियम 1939 और महामारी रोग 1937 के उल्लंघन करने वाले लगभग 10 लाख लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए थे।

 

राज्य भर में वाहन जांच, कोरोना को लेकर अफवाह फैलाने और गलत जानकारी देने के खिलाफ सभी मामले दर्ज किए गए थे। जिन मामलों के खिलाफ कार्रवाई की गई वे विशिष्ट मामलों में शामिल हैं जैसे दंगा, ई पास प्राप्त करने के लिए कपटपूर्ण तरीकों का सहारा लेना और पुलिस को उनके कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकना। इसके अलावा सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने को लेकर लगभग 1500 मामले दर्ज किए गए थे।

 

कुछ संगठनों ने विरोध प्रदर्शनों, जुलूसों और पुतलों को जलाने और विरोध प्रदर्शनों के अन्य रूपों का आयोजन किया ताकि जनता को असुविधा हो, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचे और पुलिस को कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोका जा सके। लेकिन जनता की भलाई को देखते हुए दर्ज सभी मामलों को वापस ले लिया गया है। तेनकासी जिले के कडयानल्लूर में चुनावी अभियान करते हुए मुख्यमंत्री ने यह घोषणा की।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned