अन्ना यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर के खिलाफ लगे आरोपों की जांच के लिए सरकार ने गठित की जांच पैनल

राज्य सरकार ने अन्ना विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर एमके सुरप्पा के खिलाफ लगे विभिन्न आरोपों की जांच के लिए एक विशेष कमेटी का गठन किया है।

By: Vishal Kesharwani

Published: 13 Nov 2020, 07:10 PM IST

चेन्नई. राज्य सरकार ने अन्ना विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर एमके सुरप्पा के खिलाफ लगे विभिन्न आरोपों की जांच के लिए एक विशेष कमेटी का गठन किया है। सेवानिवृत्त न्यायाधीश पी. कलैयारसन के नेतृत्व में जांच कमेटी का गठन किया गया है। उच्च शिक्षा विभाग की प्रधानसचिव सेल्वी अपूर्वा ने गत 11 नवंबर को कमेटी गठित करने को लेकर एक आदेश जारी किया था। आगामी तीन महीने के अंदर कमेटी को विस्तृत रिपोर्ट प्रदान करना होगा। जारी जीओ के अनुसार सुरप्पा पर भ्रष्टाचार समेत कई अन्य आरोप लगे हुए हैं।

 

मुख्यमंत्री सेल को मिली शिकायत के अनुसार अन्य लोगों के साथ मिलकर सुरप्पा विश्वविद्यालय में अस्थाई शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर 80 करोड़ की रिश्वत लेने के मामले में लिप्त हैं। इसके अलावा सुरप्पा पर अवैध रूप से पदोन्नति में सहायता, बेटी की नियुक्ति, एआईसीटीई को गलत जानकारी देना कि बिना परीक्षा लिए ही अंतिम वर्ष के सभी विद्यार्थियों को पास कर दिया गया और अन्य वित्तीय अनियमितताएं समेत अन्य आरोप शामिल हैं। गठित कमेटी इन आरोपों की जांच कर उचित उपायों का सुझाव देगी। मुख्यमंत्री सेल में तिरुचि निवासी सुरेश नामक व्यक्ति ने इसकी शिकायत की थी।

 

अपनी शिकायत में उन्होंने कहा था कि विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार के मामले बढ़ रहे हैं और सुरप्पा रिश्वत लेने जैसे मामलों में लिप्त हो रहे हैं। इसके अलावा कॉलेज में मशीनरी की खरीद में भी घोटाला हुआ है। गठित कमेटी द्वारा सुरप्पा के कार्यकाल के दौरान फीस, सहायता, दान और अनुदान के माध्यम प्राप्त राशि के बारे में भी जांच की जाएगी। कमेटी सुरप्पा के शासनकाल के दौरान विश्वविद्यालय द्वारा समिति व्यक्तियों, फर्मों, कंपनियों और अन्य लोगों के साथ किए गए अनुबंध और समझौते पर भी गौर करेगी। हालांकि सुरप्पा ने सख्ती से लगे आरोपों से इंकार कर दिया था।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned