बजट में महानगर को कई सौगातें, यातायात व बाढ़ जल निकासी पर ध्यान

बजट 2020-21 : बजट में महानगर की प्रमुख समस्याओं का ध्यान रखा है जिसमें यातायात, बाढ़ जल निकासी, बिजली की सुचारू व्यवस्था आदि शामिल है। इन सभी मदों पर उचित आवंटन तथा कुछ बड़ी घोषणाएं काबिले गौर है।

चेन्नई. उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने बजट २०२०-२१ में राजधानी को पूरी तवज्जो दी है। परिवहन सुविधा के नेटवर्क का विस्तार, बाढ़ जल निकासी की पुख्ता व्यवस्था, नदी व नहरों के जीर्णोद्धार, पुराने ट्रांसफार्मर बदलने सहित अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर वित्त मंत्री ने ध्यान देते हुए बजट आवंटन किया है।
गौरतलब है कि तमिलनाडु के शहरी निकायों के चुनाव अभी बाकी है। महानगर में २०० वार्ड है। सबसे पहले अम्मा कैंटीन की शुरुआत यहीं हुई थी। संभवत: मृतप्राय: से हो रही इस सुविधा में फिर से जान फूंकने की कोशिश के तहत १०० करोड़ का आवंटन कर विशेष उद्देश्य उपक्रम (स्पेशल परपज व्हीकल) के माध्यम से कैंटीन का संचालन और वित्तीय प्रबंधन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री एडपाड़ी के. पलनीस्वामी की सरकार ने बजट में महानगर की प्रमुख समस्याओं का ध्यान रखा है जिसमें यातायात, बाढ़ जल निकासी, बिजली की सुचारू व्यवस्था आदि शामिल है। इन सभी मदों पर उचित आवंटन तथा कुछ बड़ी घोषणाएं काबिले गौर है।

ओ. पन्नीरसेल्वम ने घोषणा की कि चेन्नई महानगर में ३००० करोड़ की लागत से व्यापक बाढ़ प्रबंधन परियोजना लागू की जाएगी। यह परियोजना विश्व बैंक और एशियाई अवसंरचना निवेश बैंक के सहयोग से शुरू की जाएगी। इसी तरह बाढ़ से निपटने के उपायों के लिए १५वें वित्त आयोग ने १०० करोड़ रुपए मंजूर किए है। चेन्नई मेगा सिटी डेवलपमेंट मिशन के लिए ५०० करोड़ रुपए आवंटित हुए है। नेमिली जल शुद्धीकरण संयंत्र के लिए ५०० करोड़ रुपए दिए गए है।

बकिंघम नहर का जीर्णोद्धार

बजट में ईको-रिस्टोरेशन प्रोजेक्ट का हवाला देते हुए कहा गया है कि कूवम और अडयार नदी के बाद अब बकिंघम नहर के तटों पर सौंदर्यीकरण का कार्य हाथ में लिया जाएगा। इस नहर के अलावा कूवम और अडयार नदियों में शामिल होने वाले जलमार्गों का भी जीर्णाेद्धार होगा। यह परियोजना ५४३९.७६ करोड़ रुपए की लागत से पूरी होगी। इसी तरह नवोदित चेंगलपेट जिले के चित्तलपाक्कम झील का २५ करोड़ के खर्च से जीर्णोद्धार होगा। चेन्नई कार्पोरेशन द्वारा प्रस्तावित कोशस्थलै नदी तट के सहारे ७६५ किमी के एकीकृत बाढ़ जल निकासी नेटवर्क के विकास के लिए बजट में ३५० करोड़ का प्रावधान किया गया है। मूल परियोजना की लागत २५१८ करोड़ है तथा यह प्रस्ताव वित्तीय मदद के लिए एशियाई विकास बैंक के पास भेजा गया है।

चेन्नई सिटी पार्टनरशिप
महानगर के विकास के लिए सरकार विश्व बैंक की सहायता से चेन्नई सिटी पार्टनरशिप विकास कार्यक्रम शुरू करेगी। यह एक विशेष प्रतिरूप होगा जो महानगर के निरंतर विकास के लक्ष्य पर आधारित होगा। इस प्रोजेक्ट के ४ मुख्य बिन्दु शहरी गतिशीलता (परिवहन के माध्यम), जल उपलब्धता, शहरी प्रशासन व वित्त होंगे। चेन्नई संयुक्त महानगर परिवहन प्राधिकरण का पुनर्गठन किया जाएगा। चेन्नई मेट्रो वाटर सप्लाई एंड सीवेज बोर्ड को विश्वस्तरीय निकाय बनाया जाएगा जो बाढ़ जल प्रबंधन पर केंद्रित होकर कार्य करेगा। विश्व बैंक ने चेन्नई सिटी पार्टनरशिप के लिए १ बिलियन अमरीकी डॉलर के सहयोग का संकेत दिया है।

चेन्नई मेट्रो रेल परियोजना
वित्त मंत्री ने बताया कि चेन्नई मेट्रो रेल के माधवरम से सोलंगीनल्लूर तक के दूसरे चरण को वित्तीय मदद देने की जापान इंटरनेशनल कॉ-ऑपरेशन एजेंसी (जिका) ने स्वीकृति दे दी है। ५२.०१ किमी के इस चरण में माधवरम से सोलंगीनल्लूर और माधवरम से सीएमबीटी तक मेट्रो दौड़ेगी। इस परियोजना की विस्तृत डिजाइन तैयार की जा चुकी है और निर्माण कार्य जल्द शुरू होगा। बजट में सरकार ने ३१०० करोड़ रुपए का प्रावधान अंश पूंजी, सहायक ऋण और अन्य ऋण के तौर पर किया गया है।

  • प्रमुख घोषणाएं
  • सईदापेट के ताडंदर नगर में ७६ करोड़ की लागत से सरकारी कार्मिकों के लिए बहुमंलिजा किराया रिहायशी परिसर
  • १००० करोड़ चेन्नई परिधीय मार्ग
  • १००० करोड़चेन्नई-कन्याकुमारी औद्योगिक गलियारा
  • ५६९२ ट्रांसफार्मर बदले जाएंगे ११ केवी रिंग मेन यूनिट से
  • मद्रास स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स के लिए विधेयक, दे सकेगा डिग्री, डिप्लोमा
  • मद्रास स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स स्थापित करेगा सेंटर फॉर पब्लिक फाइनेंस
  • २१९६६ एकड़ में चेन्नई-बेंगलूरु औद्योगिक गलियारे के तहत पोन्नेरी इंडस्ट्रीयल नोड की स्थापना
budget 2020
MAGAN DARMOLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned