Janta Curfew: तमिलनाडु के लोगों से 'जनता कर्फ्यू' को मिला पूरा सर्मथन, पार्क से लेकर सड़के सूनसान

चेन्नई में लोगों ने जनता कफ्र्यू (anta Curfew) में अपना सहयोग देते हुए कोरोना वायरस ( coronavirus) पर विजय पाने का दृढ़ संकल्प कर लिया और खुद को घरों में कैद कर लिया।

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 22 Mar 2020, 03:57 PM IST

चेन्नई.

जनता कर्फ्यू को रविवार सुबह चेन्नई सहित राज्य के लोगों ने पूरा समर्थन दिया। कोरोना वायरस के बचाव के लिए 'जनता कर्फ्यू' का असर रविवार सुबह से ही बाजारों से लेकर धार्मिक स्थलों पर देखने को मिला। चेन्नई में लोगों ने जनता कफ्र्यू में अपना सहयोग देते हुए कोरोना वायरस पर विजय पाने का दृढ़ संकल्प कर लिया और खुद को घरों में कैद कर लिया। सड़के सुनसान है, चहुंओर सन्नाटा दिखाई दिया। डेरी उत्पादों की दुकानें सुबह खुली नजर आईं, लेकिन सात बजे के करीब लोगों ने स्वयं दुकानें बंद कर लीं।

चाहुंओर सन्नाटा
रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, चौक-चौराहों से लेकर पार्क तक सन्नाटा पसरा रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद आम लोगों से लेकर छोटे-बड़े व्यापारी संगठन, सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था से जुड़े संगठनों ने खुद आगे आकर सड़क पर नहीं आने और दुकानें बंद करने का फैसला लिया है। चुकिं रविवार है, सरकारी कार्यालय पहले से बंद हैं। मगर, जो संस्थाएं रविवार को सेवाएं देती हैं उन्होंने भी रविवार को सेवाएं बंद करने का ऐलान कर दिया है।

कॉलोनियों में भी सन्नाटा पसरा
पीएम मोदी की अपील के बाद तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई मेंं जनता कफ्र्यू को लेकर लोग शनिवार से ही जागरूक थे। सुबह सड़कों, गलियों, मोहल्लों, कॉलोनियों हर जगह सन्नाटा पसरा है। किराने दुकान से लेकर हर जरूरी सामान की दुकानें बंद रखी गई। हालांकि कुछ लोगों को दूध जैसे जरूरी सामान के लिए घूमना पड़ा लेकिन उन्हें कहीं दुकानें खुली नहीं दिखी। यहीं नहीं पीने का पानी का कैन भी लोगों को नहीं मिल सका।

एटीसी बसें और ट्रेने रद्द
ट्रेनें-बसें भी बंद थी लेकिन शनिवार और दूसरे राज्यों से आने वाली टे्रने रविवार को आई लेकिन डा. एमजीआर चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन और अन्य रेलवे स्टेशन से ट्रेने नहीं खुली जिससे दूसरे राज्यों के लिए यात्रा करने वाले लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी। कुछ ट्रेनें रविवार सुबह जब स्टेशन पहुंची तो वहां पहले से मौजूद डॉक्टरों ने यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच की। मास्क लगाए पुलिसकर्मी भी लोगों से आपस में कम से कम एक मीटर की दूरी बनाकर स्टेशन से निकलने की अपील करते नजर आए। हालांकि रविवार को एमटीसी बसें भी नदारद रही। एमटीसी बसों का संचलानल पूरी तरह से रोक दिया गया था ताकि जनता कफ्र्यू को सफल बनाया जा सकें।

इमरजेंसी के लिए खुली अस्पताल
चिकात्सा विभाग के आदेशानुसार चेन्नई सहित राज्य के सभी सरकारी मेडिकल कालेजं व अस्पतालों की इमरजेंसी रविवार को जनता कफ्र्यू के दौरान खुली रही। ेइसके साथ ही ट्रामा, डायलिसिस, कीमोथैरेपी व रेडियाथैरेपी के मरीजों के लिए भी अस्पताल खुला रखा गया।

अम्मा कैंटीन खुले
मजदूर और गरीब तबके के लोगों के लिए वरदान साबित अम्मा कैंटीन को जनता कफ्र्यू के दिन बंद नहीं रखा गया। महानगर के हर इलाके में अम्मा कैंटीन खुले रहे और सभी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर दी गई थी।
नगर निगम आयुक्त जी. प्रकाश ने भी अम्मा कैंटीन में नाश्ता किया। बाजार बंद होने से अम्मा कैंटीन में चहल पहल दिखी।

जनता कफ्र्यू की समयावधि बढ़ी
जनता कफ्र्यू को लेकर लोगों के समर्थन को देखते हुए राज्य सरकार ने रविवार दोपहर को इसका समयावधि बढ़ाकर सोमवार सुबह पांच बजे तक कर दी। इससे पहले जनता कफ्र्यू रविवार सुबह ७ बजे से रात ९ बजे तक रखा गया था। इस दौरान लोगों को कोरोना वायरस के कहर से बचने के लिए अपने अपने घरों में रहने की अपील की गई।

अफवाह फैलाने वालों पर पैनी नजर
जनता कफ्र्यू के दौरान पुलिस अफवाह फैलाने वालों पर पैनी नजर रही। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने अफवाह फैलाने वालों और मास्क व सेनेटाइजर की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के लिए कमर कस ली थी।

पुलिसकर्मियों की गश्त
पुलिसकर्मी कोरोना वायरस से बचाव के लिए अपनाए जाने वाले संसाधनों से अपनी सुरक्षा करते हुए लगातार गश्ती पर रहें या सुनिश्चित किया कि अगर कोई घर से बाहर आया तो उसे समझाकर घर वापस भेज दें। पेट्रोलिंग गली-मोहल्लों तक की गई, जिससे कहीं भी भीड़ एकत्र न होने पाए। लोग सुरक्षित अपने घरों में रहें। यदि कहीं से भी जरूरी सामानों की कालाबाजारी की सूचना मिलती है तो उस पर तत्काल कार्रवाई की जाए।

बंद रहे पेट्रोल पंप
कोरोना वायरस से बचाव के लिए तमिलनाडु के समस्त पेट्रोल पंप के संचालकों को 22 मार्च को पेट्रोल पंप पर दो कर्मचारी ही बुलाने का निर्देश दिया गया है। ये वे कर्मचारी होंगे जो शनिवार रात ड्यूटी दे रहे थे। बहुत जरूरी होने पर ही पेट्रोल देने के निर्देश थे। जनता कफ्र्यू के दिन सभी कंपनी इंडियन ऑयल, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम सहित अन्य कंपनियों के पेट्रोल पंप बंद रहे। जनता कफ्र्यू को ध्यान में रखते हुए कंसोर्टियम ऑफ इंडियन पेट्रोलियम डीलर्स (सीआईपीडी) और ऑल इंडियन ऑर्गनाइजेशन ऑफ पेट्रोल बंक ने प्रेस विज्ञाप्ति जार कर प्रदेश के सभी पेट्रोल पंप संचालकों से पेट्रोल पंप बंद करने की अपील की थी।

मंदिर व मरीना भी बंद
धार्मिक स्थलों पर भी लोग नजर नहीं आए। मईलापुर कपालीश्वर मंदिर समेत सभी मंदिर, मस्जिद और सभी धार्मिक स्थल सूने पड़े हैं। इससे पहले रविवार के कारण पहले जहां पार्कों में सुबह से ही अच्छी-खासी भीड़ नजर आती थी, लेकिन रविवार को सभी पार्क सूने पड़े हैं। मरीना बीच समते महानगर के पांच बीच पर किसी तरह की हलचल नजर नहीं आ रही। शनिवार को ही बीच पर शैलानियों के लिए बंद कर दिया गया था। राज्य के मदुरै, कोयम्बत्तूर, तिरुचि, रामेश्वरम, ईरोड, तिरुवण्णामलै, वेलूर, शिवकाशी, कांचीपुरम, तंजावुर सहित सभी जगहों पर जनता कफ्र्यू को लोगों का पूरा समर्थन मिला है।

Show More
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned