महालय अमावस्या पर पितरों के लिए तर्पण

कोरोना की वजह से समुद्र तट पर तर्पण करने की रोक लगा थी। इसका असर रामेश्वरम में खूब नजर आया। अग्नितीर्थ जहां हजारों की संख्या इस दिन लोग तर्पण करते हैं सूना दिखाई दिया।

By: MAGAN DARMOLA

Published: 18 Sep 2020, 12:36 AM IST

चेन्नई. श्राद्ध पक्ष के अंतिम दिन अमावस्या पर पितरों के लिए तर्पण किया गया। रामेश्वरम का अग्नि तीर्थ संभवत: पहली बार इस मौके पर सूना रहा। रामनाथपुरम जिला प्रशासन ने रामेश्वरम के समुद्र तट पर पितरों के तर्पण पर रोक लगा दी। इस दिन पितरों को याद करते हुए भेंट देने के अलावा तिल और जल चढ़ाया जाता है। अमूमन हजारों की संख्या में लोग जलस्रोतों पर जाते हैं। पंडित-पुरोहितों द्वारा तर्पण कराया जाता है।

कोरोना की वजह से समुद्र तट पर तर्पण करने की रोक लगा थी। इसका असर रामेश्वरम में खूब नजर आया। अग्नितीर्थ जहां हजारों की संख्या इस दिन लोग तर्पण करते हैं सूना दिखाई दिया। यही स्थिति महाबलीपुरम के समुद्रतट पर भी थी। महाबलीपुरम के अलावा तिरुपल्लाणी के सेतुतट, देवीपट्टिनम के नवपाषणम तट और मारीऊर तट पर भी सन्नाटा पसरा रहा।

चेन्नई महानगर मेें कपालीश्वर मंदिर के आगे लोगों का हुजूम लगा। सोशल डिस्टेंसिंग की बात हवा हो गई। पंडितों ने पितरों की याद में तर्पण कराया। तिरुवल्लूर स्थित वीरराघव स्वामी मंदिर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

MAGAN DARMOLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned