केरोसिन की बोतल लेकर जनसुनवाई में पहुंची वृद्धा, पुलिस ने लिया सुरक्षा घेरे में

कलक्ट्रेट में सोमवार को जनसुनवाई में आई एक वृद्धा के पास केरोसिन मिलने से हडक़म्प मच गया। पुलिस कर्मियों ने तत्काल वृद्धा को...

By: मुकेश शर्मा

Published: 07 Jun 2018, 09:31 PM IST

कोयम्बत्तूर।कलक्ट्रेट में सोमवार को जनसुनवाई में आई एक वृद्धा के पास केरोसिन मिलने से हडक़म्प मच गया। पुलिस कर्मियों ने तत्काल वृद्धा को सुरक्षा घेरे में लिया व अपने साथ ले गई।


वृद्धा शहर के बाहरी इलाके अलनथुरई से कलक्ट्रेट आई थी। आत्मदाह की कोशिश की घटनाओं से चौकस पुलिस कर्मी हर आदमी की जांच कर रहे थे।

परिसर के अलावा बाहर की ओर भी पुलिस कर्मी निगाहें रखे हुए थे। इसी दौरान

वृद्धा वीरअम्मल भी कलक्ट्रेट पहुंची। उसके हाथ में एक थैला था। महिला पुलिस कर्मियों ने उससे थैला मांगा तो उसने टालमटोल किया और बताया कि इसमें कागजात है जिन्हें वह ज्ञापन के रुप में कलक्टर को सौंपेगी। लेकिन महिला पुलिसकर्मियों ने उसके थैले को ले लिया व उसे खोला। थैले में केरोसिन से भरी बोतल मिलने पर वे चौंकी व तत्काल वृद्धा को अपने साथ ले गई। पूछताछ में वीर अम्मल ने बताया कि उसका इरादा आत्मदाह का नहीं था। जब वह आ रही थी तो रास्ते में घर के उपयोग के लिए केरोसिन खरीदाथा।पुलिस बाद में उसे जनसुनवाई के लिए लाई।

वृद्धा ने जिला कलक्टर को बताया कि बहन उसके घर को हड़पने की साजिश रच रही है।उसके घर को बचाया जाए।अधिकारियों ने ध्यान से उसकी बात सुनी व कार्रवाई का आश्वासन दिया।बाद में एक पुलिसकर्मी वृद्धा को उसके घर छोडऩे पहुंचा।उल्लेखनीय है कि जनसुनवाई के दौरान आत्मदाह की कोशिश की घटनाओं पर रोकथाम की कोशिश के बाद भी पिछले सोमवार को दो घटनाएं हुई थी। तिरुपुर कलक्ट्रेट में २९ साल की एक महिला अपने पिता, भाई व बच्चे के साथ आई थी। वह अपने थैले में पेट्रोल से भरी एक बोतल लाई थी।

अचानक पुलिस प्रशासन पर नाराजगी जताते हुए उसने खुद व तीनों परिजनों पर पेट्रोल उड़ेल लिया और आग लगाने की कोशिश की। इसी तरह दूसरी घटना में पल्लाडम निवासी 8 0 वर्षीय वृद्ध मुथुसामी ने खुद को आग लगाने का प्रयास किया। उल्लेखनीय है कि पुलिस प्रशासन की ओर से लोगों की समस्याओं के निदान में लापरवाही से त्रस्त लोग आत्मदाह की कोशिश के जरिए प्रशासन का ध्यान आकृष्ट करते हैं।

बे्रन डैड महिला के अंग दान से सात को मिला नया जीवन

ब्रेन डैड घोषित एक महिला के अंगदान से सात रोगियों को नया जीवन मिला है। तिरुपुर के पाल्लडम में चार मई की रात सडक़ हादसे में गोमती(३२) सिर पर चोट लगने से गंभीर रुप से घायल हो गई थी। उसे यहां के कोवई मेडिकल सेंटर व अस्पताल (केएमसीएच) में उपचार के लिए भर्ती कराया गया था।दो दिन के उपचार के बाद भी हालत में सुधार नहीं हुआ व महिला ब्रेन डैड हो गई। इस पर चिकित्सकों ने महिला के पति एस वासन को सुझाव दिया कि वे चाहे तो उसके अंग दूसरे रोगियों का जीवन बचाने के लिए दान कर सकते हैं। इस पर पति ले सहमति जताई।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned