जिन्होंने पुलिसकर्मियों को बचाया, उन्हीं को लाठियों से पीट डाला

जिन्होंने पुलिसकर्मियों को बचाया, उन्हीं को लाठियों से पीट डाला

Mukesh Sharma | Publish: Jun, 14 2018 10:26:01 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

राज्य के तुत्तुकुड़ी में स्टरलाइट कॉपर प्लांट के विरोध में हिंसक प्रदर्शन के बाद धारा 144 लागू है। 22 मई को प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों...

तुत्तुकुड़ी।राज्य के तुत्तुकुड़ी में स्टरलाइट कॉपर प्लांट के विरोध में हिंसक प्रदर्शन के बाद धारा 144 लागू है। 22 मई को प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस फायरिंग में 13 लोगों की जान चली गई थी, जिसके वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ वीडियो ऐसे भी हैं जिनमें युवाओं का एक समूह महिलाओं और पुलिसकर्मियों को प्रदर्शनकारियों से बचा रहा है। लेकिन पुलिस को बचाने वाले इस समूह के लोग ही पुलिस की लाठी से घायल हो गए।

इस ग्रुप में बी.कॉम. के स्टूडेंट और ऑल कॉलेज स्टूडेंट्स फेडरेशन के जिला संयोजक संतोष राज (21) और उनके दोस्त शामिल हैं। संतोष ने ऐंटी- स्टरलाइट प्रदर्शन में सक्रिय रूप से भाग लिया था। वे उस रैली का हिस्सा थे जो शहर के ओल्ड हार्बर स्थित एक चर्च से शुरू हुई थी।

अस्पताल में अपना इलाज करा रहे संतोष के अनुसार अलग-अलग कॉलेजों से सौ से अधिक छात्र हमारे साथ थे। हम बाईपास ब्रिज के नजदीक थे, जब भीड़ ने पुलिस का पुरजोर विरोध करना शुरू किया।
महिला कांस्टेबल को प्रदर्शनकारियों से बचाया

उन्होंने बताया कि एक अकेली महिला कांस्टेबल को लाठी और पत्थर लिए भीड़ ने घेर लिया, लेकिन संतोष और उनके दो अन्य साथी प्रदर्शनकारियों और महिला कांस्टेबल के बीच दीवार बनकर खड़े रहे। उन्होंने भीड़ से कहा कि एक महिला पर अपना बल न दिखाइए। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने महिला को छोड़ दिया और दूसरी दिशा में आगे बढ़ गए। तीनों ने महिला कांस्टेबल को बचाकर एक सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया और दूसरे पुलिस कर्मियों के पास भेज दिया। इसके बाद संतोष और दूसरे प्रदर्शनकारी कलेक्ट्रट की ओर बढ़ गए, जहां पुलिस ने उन पर बर्बरतापूर्वक हमला किया।

संतोष के माथे के दाहिनी ओर चोट का एक लंबा कट हो गया। उनके सिर पर लाठियों से जोरदार प्रहार किया गया, जहां अब नौ टांके लगाए जाएंगे। संतोष ने कहा कि वह प्रदर्शन कर रहे लोगों की अगुवाई वाली पंक्ति में थे। उनके अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के इजाजत न देने के बावजूद कलेक्ट्रेट तक शांतिपूर्ण रैली निकालने की योजना बनाई थी लेकिन पुलिस ने बिना वजह हम पर हमला कर उकसाने का काम किया।

Ad Block is Banned