टिक-टॉक पर लगा प्रतिबंध हटाया

टिक-टॉक पर लगा प्रतिबंध हटाया

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Apr, 25 2019 12:53:18 AM (IST) | Updated: Apr, 25 2019 12:53:19 AM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै खंडपीठ ने बुधवार को चीनी ऐप टिक-टॉक से बैन हटाने का फैसला लिया है। इससे पहले पोर्नोग्राफी और अश्लील कंटेंट परोसे जाने के...

मदुरै।मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै खंडपीठ ने बुधवार को चीनी ऐप टिक-टॉक से बैन हटाने का फैसला लिया है। इससे पहले पोर्नोग्राफी और अश्लील कंटेंट परोसे जाने के आरोप में मद्रास हाईकोर्ट ने तीन अप्रैल को केंद्र को टिक-टॉक ऐप पर पाबंदी लगाने का निर्देश दिया था। तब कोर्ट ने कहा था कि मीडिया रिपोर्ट से यह पता चलता है कि ऐप के जरिए अश्लील और अनुचित सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने टिक टॉक पर लगे बैन के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए मद्रास हाईकोर्ट को 24 अप्रैल तक बैन के आदेश पर विचार करने का निर्देश दिया था। मद्रास हाईकोर्ट ने बुधवार को इस मामले में सुनवाई करते हुए टिक-टॉक पर लगा बैन हटा लिया। सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया था कि अगर मद्रास हाईकोर्ट ने तब तक इस पर विचार नहीं किया तो यह रोक हट जाएगी।न्यायाधीश एन. कृपाकरण और एसएस सुंदर की अगुवाई वाली बेंच ने सुनवाई में दलीलें पेश करने के बाद टिक-टॉक ऐप से पाबंदी हटा दी। टिक टॉक की तरफ से अरविंद दातर ने कोर्ट में यह तर्क दिया है कि ऐसी कोई भी व्यवस्था नहीं हो सकती है जो वैधानिक रूप से मान्य हो लेकिन न्यायिक रूप से पूर्ण न हो। इस ऐप को बैन करना समाधान नहीं है। उपभोक्ताओं की राइट सुरक्षा करना जरूरी है।

टिक टॉक की ओर से वरिष्ठ वकील इशाक मोहनलाल ने कोर्ट को बताया कि कंपनी ने न्यूड या आपत्तिजनक कंटेंट ऐप पर अपलोड न हो यह सुनिश्चित करने के लिए नई टेक्नोलॉजी अपनाई है। टिक-टॉक ने कोर्ट में हलफनामा दायर कर कोर्ट को यह विश्वास दिलाया है कि उसके ऐप पर अश्लील और आपत्तिजनक सामग्री पर प्रतिबंध सुनिश्चित किया जाएगा।

बाइटडांस ने 22 अप्रैल को एक बयान में कहा था कि भारत में टिक-टॉक पर प्रतिबंध लगने से उसे रोजाना 5 लाख डॉलर तकरीबन 3.5 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है और इससे भारत में कार्यरत उसके 250 कर्मचारियों पर नौकरी जाने की तलवार लटक रही है।

मद्रास हाईकोर्ट के टिक-टॉक बैन के फैसले के बाद गूगल और एप्पल ने भारत में इस ऐप को प्ले स्टोर और ऐप स्टोर से हटा लिया था। हालांकि खबर लिखे जाने तक यह ऐप प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर नहीं आया है, लेकिन जल्दी ही यह ऐप डाउनलोडिंग के लिए उपलब्ध होगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned