राज्य सरकार महामारी से प्रभावित एमएसएमई को समर्थन देने की योजना पर कर रही काम: मंत्री

राज्य के ग्रामीण उद्योग मंत्री टीएम. अनबरसन ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से बुरी तरह से प्रभावित हुए एमएसएमई को समर्थन प्रदान करने के लिए

By: Vishal Kesharwani

Published: 28 May 2021, 07:43 PM IST


चेन्नई. राज्य के ग्रामीण उद्योग मंत्री टीएम. अनबरसन ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से बुरी तरह से प्रभावित हुए एमएसएमई को समर्थन प्रदान करने के लिए राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं पर कार्य कर रही है। सदर्न इंडिया चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एसआईसीसीआई ) द्वारा आयोजित बेविनार में बातचीत के दौरान मंत्री ने कहा कोरोना महामारी के बीच एमएसएमई को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। मजदूरों की कमी है, क्योंकि प्रवासी मजदूर अपने अपने गांव जा चुके हैं और उत्पादन लागत में भी वृद्धि हो गई है।

 

शुरू होने वाली योजना में एमएसएमई के पुनरुद्धार, नई नौकरियों के सृजन और डिजिटलीकरण को प्रोत्साहित करके नौकरी के नुकसान को दूर करने की योजना शामिल है। राज्य सरकार ने अन्य उपायों के साथ ही एमएसएमई के लिए पूंजीगत सब्सिडी और दिसंबर तक पंजीकरण शुल्क माफ करने की घोषणा की है।

 


एसआईसीसीआई के अध्यक्ष आरएम अरुण ने बताया कि एमएसएमई को कई संकटों का सामना करना पड़ रहा है और बैंकों से कार्यशील पंूजी प्राप्त करने में भी कठिनाई आ रही है। उन्होंने एमएसएमई के लिए ऋण स्थगन की पेशकश सहित अन्य उपाय करने का भी सुझाव दिया और सरकार से अनुरोध किया कि वह बिजली पर निश्चित शुल्क का भुगतान न करें। जिसके बाद मंत्री ने कहा कि इन आग्रहों पर सरकार विचार करेगी।

 


-तमिलनाडु एमएसएमई के लिए तीसरा सबसे बड़ा राज्य
उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के बाद तमिलनाडु एमएसएमई के लिए तीसरा सबसे बड़ा राज्य है। राज्य में 23.६० लाख एमएसएमई हैं जो 1.५२ करोड़ नौकरी प्रदान करते हैं। कृषि के बाद राज्य के आर्थिक विकास में एमएसएमई का बड़ा योगदान है। डीएमके सरकार एमएसएमई के मामले में तमिलनाडु को पहले स्थान पर लाने का प्रयास कर रही है।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned