हिंदी सीखने के लिए उसे दिल से अपनाने की जरूरत

हिंदी सीखने के लिए उसे दिल से अपनाने की जरूरत है। जबतक हम किसी भाषा संस्कृति के प्रति दिल से प्रेम नहीं रखेंगे हम उसे कभी नहीं सीख पाएंगे। केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला चेन्नई में शुक्रवार को भाषा त्रैमासिक बैठक को संबोधित करते हुए प्रयोगशाला के निदे

By: मुकेश शर्मा

Published: 30 Dec 2018, 12:27 AM IST

चेन्नई।हिंदी सीखने के लिए उसे दिल से अपनाने की जरूरत है। जबतक हम किसी भाषा संस्कृति के प्रति दिल से प्रेम नहीं रखेंगे हम उसे कभी नहीं सीख पाएंगे। केंद्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला चेन्नई में शुक्रवार को भाषा त्रैमासिक बैठक को संबोधित करते हुए प्रयोगशाला के निदेशक डा. एन. मुरुगेशन ने कहा कि अगर हमें हिंदी सीखना है तो हिंदी से प्रेम करने की जरूरत है। हिंदी के प्रति प्रयोगशाला के कर्मचारियों में जागरूकता लाने के लिए वह समय-समय पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

कर्मचारियों को हिंदी सिखाने के लिए सितम्बर माह में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया था। अगली कार्यशाला अगले साल मार्च में आयोजित की जाएगी। इस मौके पर वरिष्ठ वैज्ञानिक विजय लक्ष्मी समेत कई अन्य लोग मौजूद थे।

कोडैकनाल में सिलेंडर ब्लास्ट में एक परिवार के 3 जनों की मौत

साल के आखिर में जहां शहर बारिश की फुहारों से भीग रहा है वहीं शनिवार सुबह रसोई में रखे गैस सिलेंडर में विस्फोट होने से परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई।सूत्रों ने बताया कि गैस सिलेंडर में विस्फोट के बाद आग लगने से दिंडीगुल जिले के मंगलम कोम्बू के पूर्व नगर पंचायत के अध्यक्ष गणेशन (50), उनकी पत्नी ज्योति (45) और बेटी विष्णुप्रिया (10) की जलकर मौत हो गई।

विष्णुप्रिया चिन्नलपट्टी के स्कूल में पढ़ती थी। परिवार यहां क्रिसमस की छुट्टी मनाने के लिए आया था। संभवत: रात को गैस सिलेंडर में रिसाव हुआ होगा। सुबह ज्योति ने इस ओर ध्यान दिए बिना ही गैस चालू करने की कोशिश की। जिस कारण सिलेंडर में विस्फोट हो गया और आग लग गई। घर की छत को हाथियों के डर से लकड़ी के तख्ते से ढका गया था और दरवाजा अंदर से बंद था। इसलिए आग पूरे घर में फैल जाने के बाद पड़ोसियों को इसका पता चला। तब तक आग ने तीनों जनों को लील लिया था। इस हादसे में एक साथ पूरे परिवार के खत्म हो जाने से क्षेत्र के निवासियों को झटका लगा है।


सूचना पाकर पुलिस और दमकल और बचाव कर्मी मौके पर पहुंचे। आग पर काबू पाने के बाद पुलिस ने सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल भेज दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

एक अधिकारी ने कहा कि आग की लपटें तेज होने के कारण अंदर से कोई बाहर नहीं आ पाया। पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष होने के कारण क्षेत्र के लोग गणेशन से परिचित थे। इस दुर्घटना के बाद पूरे गांव में शोक का माहौल छा गया।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned