scriptTraining need of hour to mitigate migration | लॉकडाउन में भूले कौशल,  अब तमिलनाडु कौशल विकास निगम देगा प्रशिक्षण | Patrika News

लॉकडाउन में भूले कौशल,  अब तमिलनाडु कौशल विकास निगम देगा प्रशिक्षण

न्यूनतम निवेश में छोटे रोजगार के गुर सिखाएंगे
मिट्टी के बर्तनों और कढ़ाई के प्रशिक्षण से शुरुआत

चेन्नई

Published: July 23, 2022 12:03:44 am

लॉकडाउन में कई लोग अपना परम्परागत कौशल भूल गए। अब ऐसे लोगों को फिर से नए तरीके से कौशल में पारंगत बनाया जाएगा। रोजगार की तलाश में वे अब फिर से अन्य राज्यों में पलायन को मजबूर हो रहे हैं। तमिलनाडु कौशल विकास निगम ने ऐसे लोगों को प्रशिक्षण देना शुरू किया है। उन्हें रियायती दरों पर ऋण भी मुहैया करवाया जाएगा ताकि रोजी-रोटी चला सकें। शुरुआत में मिट्टी के बर्तन बनाने वालों एवं कढ़ाई का काम करने वालों को प्रशिक्षण देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाया जाएगा।
ग्रामीण क्षेत्रों के लोग महामारी के दौरान रोजगार के नुकसान के कारण खराब वित्तीय स्थिति के कारण रोजगार की तलाश में आस-पास के राज्यों की ओर पलायन करने लगे हैं। अधिकारियों का कहना है कि इससे निपटने के लिए वे कला और शिल्प में प्रशिक्षण के साथ ग्रामीण कौशल में सुधार कर रहे हैं।
पहले डेढ़ लाख कमाते थे, अब 40 हजार भी नहीं
तिरुकोविर के रहने वाले के. आर. रमेश पांच साल तक बेंगलुरु में फल विक्रेता थे। गांव लौटने के बाद उनका पांच सदस्यों का परिवार तिरुकोविर बस स्टैंड पर एक गाड़ी पर कटहल और केले बेचकर गुजारा कर रहा था। रमेश ने कहा, जब मैं बेंगलुरु में काम करता था तो मैं हर छह महीने में 70,000 रुपए कमाता था। मेरी आय में वृद्धि हुई जब मेरी पत्नी मेरे साथ आई लेकिन पिछले दो सालों से सालाना 40,000 रुपए भी बनाना मुश्किल हो गया है। मेरा परिवार और दो अन्य लोगों ने कर्नाटक वापस जाने का फैसला किया है। इसी तरह विल्लुपुरम में एक प्रवासी कल्याण संगठन के अनुसार, कंडमंगलम ब्लॉक के परिवारों ने अपने पिछले काम को जारी रखने के लिए आंध्र प्रदेश में प्रवास करने का विकल्प चुना है।
ग्रामीण समुदायों के बीच कौशल प्रशिक्षण की कमी
तमिलनाडु कौशल विकास निगम के एक परियोजना अधिकारी के अनुसार प्रवास का मुख्य कारण ग्रामीण समुदायों के बीच कौशल प्रशिक्षण की कमी है। मौजूदा कौशल प्रशिक्षण मॉडल बाजार के अनुकूल नहीं है, उन्होंने कहा कि ग्रामीण समुदायों को कौशल में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए ताकि वे न्यूनतम निवेश का उपयोग करके एक व्यवहार्य व्यवसाय में बदल सकें। मौजूदा मॉडल उनके लिए ज्यादा जगह नहीं देता है क्योंकि निवेश अधिक है।
जमीनी स्तर पर प्रशिक्षण पिछले एक साल से चल रहा
हालांकि तमिलनाडु ग्रामीण परिवर्तन परियोजना (टीएनआरटीपी) के अधिकारियों का कहना है कि जमीनी स्तर पर प्रशिक्षण पिछले एक साल से चल रहा है। टीएनआरटीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विभाग हाशिए पर जा चुके समुदायों को मिट्टी के बर्तनों और कढ़ाई का प्रशिक्षण दे रहा है। हम आम तौर पर एक विशेष कौशल में एक स्थानीय विशेषज्ञ पाते हैं और वे एक ही इलाके के 30 लोगों के बैच को प्रशिक्षित करने के लिए संसाधन व्यक्ति होंगे। एक बार प्रशिक्षण समाप्त हो जाने के बाद प्रतिभागी व्यवसाय या नौकरी शुरू कर सकते हैं। टीएनआरटीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, उनकी प्रक्रिया को रिकॉर्ड करने के लिए तीन महीने तक उनका निरीक्षण करेंगे। विभाग लाभार्थियों को व्यवसाय शुरू करने के लिए धन और रियायती ऋण की व्यवस्था करेगा।
Training need of hour to mitigate migration
Training need of hour to mitigate migration

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, कई लोगों के फंसे होने की आशंकात्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.