Tamilnadu: सिर सांठै रूंख रहे तो भी सस्तो जाण..

राजस्थान (rajasthan) के जोधपुर (jodhpur) जिले के खेजड़ली में अमृतादेवी विश्नोई (amritadevi vishnoi) के नेतृत्व में विश्नोई समाज के 363 लोगों ने पेड़ों की रक्षार्थ अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। पेड़ों के लिए जान दे देने की यह दुनिया की अनूठी मिसाल है। वर्ष 1730 में विश्नोई (vishnoi) समाज की 71 महिलाएं एवं 292 पुरुष पेड़ों को बचाने के लिए शहीद हो गए।

By: Ashok Rajpurohit

Updated: 13 Sep 2019, 08:26 PM IST

चेन्नई. पेड़ बचाना व उनका संरक्षण हमारा दायित्व है। हम अधिकाधिक पौधे लगाकर उनकी नियमित सार-संभाल करें। राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान के तहत माधवरम-रेडहिल्स हाईवे पर वडापेरम्बाक्कम की रंगा गार्डन कॉलोनी में पौधारोपण के तहत प्रवासियों ने कुछ ऐसा ही संकल्प दोहराया। पौधरोपण के दौरान श्री गुरु जम्भेश्वर विश्नोई ट्रस्ट चेन्नई के साथ ही स्थानीय लोगों का सहयोग रहा।

पेड़ों की रक्षार्थ अपने प्राण न्यौछावर
ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने कहा कि राजस्थान के जोधपुर जिले के खेजड़ली में अमृतादेवी विश्नोई के नेतृत्व में विश्नोई समाज के 363 लोगों ने पेड़ों की रक्षार्थ अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। पेड़ों के लिए जान दे देने की यह दुनिया की अनूठी मिसाल है। वर्ष 1730 में विश्नोई समाज की 71 महिलाएं एवं 292 पुरुष पेड़ों को बचाने के लिए शहीद हो गए।
सिर सांठै रूंख रहे तो भी सस्तो जाण...इस पर विश्नोई समाज सदियों से कायम है।

पौधों की रक्षा

विश्नोई बाहुल्य इलाकों में आज भी पेड़ों एवं जानवरों की हिफाजत की जाती है। विश्नोई समाज के लोग किसी भी कीमत पर इनका रक्षा करते हैं। उन्होंने कहा पौधों की रक्षा करना हमारा दायित्व है। पौधरोपण के जरिए ही हम पर्यावरण की रक्षा कर सकते हैं।

हरित प्रदेश अभियान

प्रारम्भ में राजस्थान पत्रिका चेन्नई के मुख्य उप संपादक अशोकसिंह राजपुरोहित ने राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान के बारे में जानकारी दी। राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान के साथ मिलकर विभिन्न संगठन एवं संस्थाएं पौधरोपण के लिए आगे आई है।

महिलाओं ने भी किया पौधारोपण

इस अवसर पर मोहनलाल गोदारा, जगमालराम गोदारा, श्रवण कुमार बेनीवाल, जयकिशन वी. गोदारा, पूनमाराम बी. गोदारा, पूनमाराम आर. गोदारा, भजनलाल जे. गोदारा, रामावतार जांगीड़, छात्रा पूजा विश्नोई, रेलवे से सेवानिवृत्त कृपाकरण समेत अन्य ने पौधरोपण किया। प्रवासी महिलाओं ने भी पौधारोपण किया।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,

पेड़-पौधों की रक्षा

राजस्थान के जोधपुर जिले में खेजड़ली में अमृतादेवी विश्नोई के नेतृत्व में पेड़ों की रक्षार्थ जान दे दी थी। पेड़-पौधों की रक्षा करना विश्नोई समाज के लोग अपना कत्र्तव्य समझते हैं।

हनुमानराम खीचड़, सचिव, श्री गुरु जम्भेश्वर विश्नोई ट्रस्ट, चेन्नई

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,

पर्यावरण का संतुलन
केवल बातों से कुछ नहीं होने वाला। ठोस कदम उठाने की जरूरत है। मौजूदा समय में जरूरत इस बात की है कि हम पौधरोपण की दिशा में कदम बढ़ाएं। इससे ही पर्यावरण का संतुलन बनाए रखा जा सकता है।
गंगाराम गोदारा, उपाध्यक्ष, श्री गुरु जम्भेश्वर विश्नोई ट्रस्ट. चेन्नई।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,

ठोस कदम उठाएं
बढ़ता प्रदूषण निश्चय ही चिंतनीय है। केवल सोचने से कुछ नहीं होगा। अब समय आ गया है कि हम कोई ठोस कदम उठाएं। हमे जल संरक्षण पर अभी से ध्यान देना होगा।
राजूराम सोऊ, सह सचिव, श्री गुरु जम्भेश्वर विश्नोई ट्रस्ट, चेन्नई।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,

पानी का महत्व भी समझें
प्रकृति का हरा-भरा रहना जरूरी है। मैंने कई जगह पौधे लगाए हैं। इससे प्रदूषण कम हो सकेगा। पौधे लगाने के साथ ही हम पानी का महत्व भी समझें।
भोमराज जांगीड़, अध्यक्ष, जांगीड़ समाज।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,


पेड़ लगाओ जीवन बचाओ
पेड़-पौधों का जीवन में बहुत महत्व है। खाद, बीज, पानी देकर हम पौधो को बड़ा करने में सहयोग दें। मैं खुद पौधे लगाऊंगी तथा कम से कम 10 लोगों को पौधे लगाने के लिए प्रेरित व जागरुक करने का भी भरोसा दिलाती हूं।
गुड्डी विश्नोई, छात्रा।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,


कई तरह से लाभकारी हैं पौधे
पेड़े हमारे जीवन में कई तरह से उपयोगी है। इनसे न केवल हमें छाया मिलती है बल्कि फल-फूल एवं कई तरह से हमारे लिए लाभदायक है। पर्यावरण को बचाने में पेड़ों की प्रमुख भूमिका है।
किरण विश्नोई, छात्रा।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,


पौधों की परवरिश करें
हम खुद पौधे लगाएं साथ ही अन्य लोगों को भी पौधे लगाने के लिए प्रेरित करें। पौधे लगाने के साथ ही हम उनकी नियमित रूप से सार-संभाल भी करें। पौधों की परवरिश की जाएं।
अनिता विश्नोई, छात्रा।

Tree plantation, Harit pradesh, Tamilnadu, Chennai,
Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned