तिरुचि के पंचायत यूनियन मिडिल स्कूल को निजी स्कूलों की तरह अपग्रेड करने का आग्रह

जिले के पंचायत यूनियन मिडिल स्कूल के पांचवीं कक्षा के विद्यार्थी ने मुख्यमंत्री एमके स्टालिन को पत्र लिख पंचायत स्कूल को

By: Vishal Kesharwani

Published: 27 Jun 2021, 06:42 PM IST


-पांचवीं कक्षा के विद्यार्थी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
चेन्नई. जिले के पंचायत यूनियन मिडिल स्कूल के पांचवीं कक्षा के विद्यार्थी ने मुख्यमंत्री एमके स्टालिन को पत्र लिख पंचायत स्कूल को निजी स्कूल की तरह अपग्रेड करने की अपील की है। वी. महापतिनजली (9) नामक विद्यार्थी, जो पिछले साल कप्पामपट्टी गांव के सीबीएसई स्कूल से सरकारी स्कूल में दाखिला कराया था, ने पंचायत स्कूल में एस्ट्रा पाठ्येतर गतिविधियों की कमी पाई। पहले वाले स्कूल में कंप्यूटर, अंग्रेजी सीखने की सुविधा, योग और सिलंबन सीखने की सुविधिाएं थी, लेकिन नए स्कूल में इस प्रकार की एक भी सुविधा नहीं है।

 

इसके अलावा स्कूल में स्मार्ट क्लासरूम भी नहीं है और बच्चों को बाहर भी नहीं ले जाया जाता है। जिसके बाद उसने मुख्यमंत्री को पत्र लिख निजी स्कूल की तरह पंचायत स्कूल में भी सुविधा मुहैया कराने का आग्रह किया। अपने पत्र में बच्चे ने लिखा कि उसके पिता ने बताया है कि ग्राम सभा की बैठकों में पारित प्रस्तावों का महत्व है। वर्ष 2018 में मै अपने पिता के साथ कई ग्राम सभा की बैठकों में शामिल भी हुआ और वहां पर स्कूलों को अपग्रेड करने के संबंध में प्रस्ताव भी पारित किए गए थे। लेकिन इस संबंध में अब तक किसी प्रकार का कदम नहीं उठाया गया। उसने कहा कि पंचायत स्कूल में निजी स्कूलों की तरह बच्चों को बाहर ले जाने की सुविधा नहीं है। बाहर ले जाने से बच्चे नए नए चीजों को सीखते हैं।

 


-मुख्य शिक्षा अधिकारी ने बच्चे के साथ की चर्चा
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र के वायरल होने के बाद मुख्य शिक्षा अधिकारी आर. अरिवलगन ने महापतिनजली से मुलाकात की औैर उसके साथ चर्चा किया। साथ ही उन्होंने बच्चें को उसकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उचित कदम उठाने का आश्वासन दिया। स्कूल के हेडमास्टर आर. अशोक कुमार ने बताया कि 230 विद्यार्थियों वाले इस स्कूल में टाइल की छत वाली नौ कक्षाएं हैं।

 

75 वर्षीय पुराने इस स्कूल की इमारत कई दशकों पुरानी है। लंबे समय से अधिकारियों से विभिन्न सुविधा मुहैया कराने का आग्रह किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महापतिनजली सीबीएसई स्कूल से इस स्कूल में आया है तो वह उसी स्कूल की तरह सुविधाएं चाहता है। महामारी के बाद स्कूल के खुलने पर अतिरिक्त गतिविधियां सुनिश्चित कराने को लेकर कदम उठाए जाएंगे।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned