अंतर्राष्ट्रीय सहकारी प्रयास के तहत भारत पहुंचा वियतनाम का तटरक्षक जहाज

अंतर्राष्ट्रीय सहकारी प्रयास के तहत भारत की पहली यात्रा पर आया वियतनाम का तटरक्षक जहाज (वीसीजी) सीएसबी 8001 मंगलवार को चेन्नई कोस्ट गार्ड पहुंचा। वियतनाम के हनोई बेस पोर्ट से 3575 समुद्री मील की यात्रा करके चेन्नई पहुंचे इस जहाज का स्वागत वियतनाम कोस्ट गार्ड के कमांडेंट मेजर जनरल गुंयेन वानसॉन एवं भारत के क्षेत्रीय कोस्ट गार्ड कमांडर (पूर्व) इंस्पेक्टर जनरल परमेश शिवामणि ने किया। दोनों देशों की नौसेना के बीच आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के

By: मुकेश शर्मा

Published: 15 Nov 2018, 11:32 PM IST

चेन्नई।अंतर्राष्ट्रीय सहकारी प्रयास के तहत भारत की पहली यात्रा पर आया वियतनाम का तटरक्षक जहाज (वीसीजी) सीएसबी 8001 मंगलवार को चेन्नई कोस्ट गार्ड पहुंचा। वियतनाम के हनोई बेस पोर्ट से 3575 समुद्री मील की यात्रा करके चेन्नई पहुंचे इस जहाज का स्वागत वियतनाम कोस्ट गार्ड के कमांडेंट मेजर जनरल गुंयेन वानसॉन एवं भारत के क्षेत्रीय कोस्ट गार्ड कमांडर (पूर्व) इंस्पेक्टर जनरल परमेश शिवामणि ने किया। दोनों देशों की नौसेना के बीच आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए वियतनाम के कमांडर के साथ 6 सदस्यी प्रतिनिधि मंडल सोमवार को ही चेन्नई पहुंच गया था।

भारत में ठहराव के दौरान भारतीय एवं वियतनाम तटरक्षक बल दो देशों की नौसेनाओं के बीच आंतरिक क्रियाशीलता को बढ़ावा देने के लिए 4 अक्टूबर को सहयोग-हॉप टॉक 2018 नाम से आयोजित संयुक्त अभ्यास में भाग लेंगे। इस संयुक्त अभ्यास में कुल तीन जहाज, एक हेलिकॉप्टर, भारतीय कोस्टगार्ड के एक डोनियर एवं वियतनाम से आए जहाज को शामिल किया जाएगा। इसके अलावा इस अभ्यास में राष्ट्रीय सामुद्रिक प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईओटी) का सागर मंजूसा नामक पोत भी शिरकत करेगा।

स्कूलों में प्रात:कालीन मुफ्त भोजन योजना की शुरुआत

राज्य में पहली बार तंडियारलूर के पास स्थित अरुमंडापालयम के सरकारी स्कूल के बच्चों के लिए प्रात:कालीन मुफ्त भोजन योजना की शुरुआत की गई। राष्ट्रपिता के जन्मदिवस, कर्मवीर कामराजर की ४३वीं पुण्यतिथि और तिरुवल्लूर की प्रतिमा के उद्घाटन के मौके पर स्कूल के बच्चों में किताबों का वितरण भी किया गया। उद्योगपति सी.के. कन्नन ने बताया कि मंदिरों में अन्नदान करने के बजाय स्कूलों के जरूरतमंद विद्यार्थियों में भोजन देना काफी पुण्य का काम है। उन्होंने कहा इस स्कूल में सभी सुविधाएं हैं पर कुछ ही बच्चे पढ़ते हैं।

सुबह के भोजन की शुरुआत के बाद ज्यादा से ज्यादा बच्चे स्कूल में आएंगे। साथ ही अभिभावकों को जागरूक करने की भी योजना बनाई गई है, ताकि वे अपने बच्चों को स्कूल में दाखिल कराएं।
उन्होंने कहा इस नई योजना के तहत स्कूल की छुट्टी को छोडक़र प्रत्येक दिन अंडा, दूध, इडली, डोसा, चपाती सहित अन्य पौष्टिक आहार दिया जाएगा।

तमिलनाडु में पहली बार ऐसी योजना शुरू की गई है और आशा है कि राज्यभर में ही नहीं बल्कि देशभर में इसका विस्तार होगा।

इस योजना के लिए निजी कंपनियों, एनजीओ और जनता को अपना समर्थन करना चाहिए। इसके अलावा जल्द ही राज्य के अन्य सरकारी स्कूलों में भी इस योजना के विस्तार के लिए कार्य किया जाएगा।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned