इस गांव में दलितों को नहीं दिया जा रहा पानी

जातिगत वैमनस्य : रात के वक्त चुपके से पानी लाने को विवश हो रहे दलित ।

मुदुकुलत्तूर के पास सांबकुलम पंचायत के इंद्रा नगर में Dalit communities के सौ से अधिक परिवार बसे हैं। इस नगर में Cauvery का पेयजल, बिजली और अन्य Basic facilities नहीं है।

रामनाथपुरम. राज्य के दक्षिणी हिस्सों में जातिगत वैमनस्य कम होता दिखाई नहीं देता। ताजा घटना मुदुकुलत्तूर की है जहां एक गांव के लोगों ने दलितों का पानी रोक दिया है। वे रात के वक्त चुपके से पानी लाने को विवश हो रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार मुदुकुलत्तूर के पास सांबकुलम पंचायत के इंद्रा नगर में दलित समुदायों के सौ से अधिक परिवार बसे हैं। इस नगर में कावेरी का पेयजल, बिजली और अन्य बुनियादी सुविधाएं नहीं है। इस सिलसिले में इस क्षेत्र के निवासियों ने जिला कलक्टर से अर्जी भी लगाई लेकिन उनकी समस्याएं जस की तस है।

गांव में पानी की कमी होने की वजह से वे तीन किमी दूर ऊडैकुलम गांव जाकर सीमेंट की पानी की टंकी से सटी छोटी वाली टंकी में आने वाला अतिरिक्त पानी भरकर लाते थे।

इस बीच ऊडैकुलम गांव के लोगों ने इन परिवारों पर कथित रूप से जातिगत टिप्पणी करते हुए धमकाया और पानी भरने से रोका। इस वजह से इंद्रा नगर के लोग रात के अंधेरे में पानी लाने लगे हैं। पेयजल का संकट गहराने की वजह से वे विकल्प के रूप में बरसात और Borewell का नमकीन पानी उपयोग में ला रहे हैं जो महिलाओं व बच्चों की सेहत के लिए हानिकारक बताया जा रहा है।

मुदुकुलत्तूर पंचायत आयुक्त को भी इनकी समस्याओं का ज्ञान हो लेकिन वहां से भी कोई आस नहीं बंधी। उनका कहना है कि वे फिलहाल पानी को तरस रह हैं। उनकी मांग है कि जिला प्रशासन इंद्रा नगर के लिए पानी की अलग पाइप लाइन बिछाए।

Show More
MAGAN DARMOLA
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned