जयललिता की सम्पत्ति का कौन करेगा प्रबंधन ?

हाईकोर्ट का दीपक और दीपा का नोटिस

By: P S Kumar

Published: 15 Nov 2018, 10:20 PM IST

चेन्नई. स्वर्गीय जे. जयललिता की सम्पत्तियों का प्रबंधन कौन करने वाला है? मद्रास उच्च न्यायालय ने यह सवाल करते हुए जयललिता के भाई के बेटे दीपक और बेटी दीपा का नोटिस भेजा है। जे. जयललिता का लम्बी बीमारी के बाद ५ दिसम्बर २०१६ को निधन हो गया था। कर्नाटक प्रदेश के एआईएडीएमके सचिव रहे पुगलेंदी जो अब एएमएमके में हैं ने मद्रास उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी कि जयललिता की तमिलनाडु और अन्य राज्यों में करीब ९१३ करोड़ रुपए की सम्पत्तियां हैं। इन सम्पत्तियों की देख-रेख और प्रबंधन के लिए प्रशासनिक समिति का गठन किया जाए।

इस याचिका को एकल जज कार्तिकेयन ने यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि जयललिता के सगे रिश्तेदार उनके भाई के बेटे दीपक और बेटी दीपा की मौजूदगी में किसी तरह की प्रशासनिक समिति की आवश्यकता नहीं है। पुगलेंदी ने एकल जज के आदेश को चुनौती देते हुए अपील की। इस अपील पर न्यायाधीश एन. कृपाकरण की अध्यक्षता वाली न्यायिक बेंच ने सुनवाई की।

बेंच ने कहा कि तमिलनाडु और इतर राज्यों में जयललिता की ९१३ करोड़ रुपए की सम्पत्तियों की सूची होने से उनका प्रबंधन करना बड़ा कार्य नहीं है। लेकिन इन सम्पत्तियों का अनुरक्षण कौन करेगा? सम्पत्ति प्रबंधन को लेकर क्या कोई योजना है? क्या न्यायालय के निरीक्षण में एक समिति का गठन किया जाना चाहिए? कुछ ऐसे ही सवाल करते हुए न्यायिक पीठ ने दीपक और दीपा को चार सप्ताह के भीतर जवाब देने का नोटिस जारी किया है।

जे. जयललिता का लम्बी बीमारी के बाद ५ दिसम्बर २०१६ को निधन हो गया था। कर्नाटक प्रदेश के एआईएडीएमके सचिव रहे पुगलेंदी जो अब एएमएमके में हैं ने मद्रास उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी कि जयललिता की तमिलनाडु और अन्य राज्यों में करीब ९१३ करोड़ रुपए की सम्पत्तियां हैं। इन सम्पत्तियों की देख-रेख और प्रबंधन के लिए प्रशासनिक समिति का गठन किया जाए।

P S Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned