साथ मिलकर करें सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण का कार्य : नायडू

साथ मिलकर करें सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण का कार्य : नायडू

MAGAN DARMOLA | Updated: 14 Jul 2019, 07:59:15 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा प्राचीन काल की वस्तुओं के पुनरुद्धार के लिए विशेष तकनीकी कौशल की जरूरत

चेन्नई. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि सरकार एवं सामाजिक संगठनों को मूर्त एवं अमूर्त सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण का काम एक साथ हाथ में लेकर पूरा करना चाहिए। उपराष्ट्रपति यहां शनिवार को अन्ना विश्वविद्यालय के विवेकानंद हॉल में आयोजित एक कार्यक्रम में श्री रंगनाथस्वामी टेम्पल, श्रीरंगम: प्रिजरविंग एन्टीकुइटी फॉर प्रोस्पेरिटी नामक पुस्तक का विमोचन करने के बाद बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक निजी भागीदारी के तहत स्मारकों के संरक्षण एवं सांस्कृतिक परंपराओं तथा कला मंचों को बढ़ावा देने के कार्य की शुरुआत हो चुकी है। श्रीरंगनाथस्वामी मंदिर की संरक्षण परियोजना की अति आवश्यकता थी। इस परियोजना की शुरुआत 2014 के जून में शुरू हुई थी और 1300 लोगों की टीम ने 16 महीने के रिकार्ड समय में इसे पूरा कर लिया गया। इसे प्रतिष्ठित यूनेस्को अवार्ड आफ मेरिट दिया गया।

Venkaiah Naidu ने कहा केवल जुनून ही नहीं सेवा की भावना ने इस परियोजना को साधारण से असाधारण बना दिया। यह इस बात का बेहतर उदाहरण है कि अगर सरकार, पेशेवर तथा स्थानीय समुदाय कंधे से कंधा मिलाकर काम करे तो सामान्य लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि भारत में हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है कि प्राचीन स्थानों के मलबों में छिपे बहुमूल्य खजानों को निकालकर उन्हें मूल गौरवशाली आकार में रखा जाए। इस तरह के कार्य दूसरों के लिए प्रेरक हैं।

vice president Venkaiah Naidu ने कहा हमें प्राचीन काल की वस्तुओं के पुनरुद्धार की क्षमता को बढ़ाने की भी जरूरत है। इसके लिए विशेष तकनीकी कौशल की जरूरत है। उन्हें पुनरुद्धार कार्य का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। सिविल इंजीनियरिंग कॉलेजों को ऐसे विशेष पाठ्यक्रम का विकास करना चाहिए। स्थानीय प्रशासन को धार्मिक एवं ऐतिहासिक स्थानों से अतिक्रमण को हटाने का विशेष प्रयास करना चाहिए। साथ ही तीर्थ यात्रियों की सुविधाओं का भी ध्यान रखना चाहिए। एक भव्य परंपरा के उत्तराधिकारी के रूप में यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। नई पीढ़ी के लिए इसका संरक्षण हमारा कर्तव्य है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned