script10 percent students of the district did not take admission in school | जिले के 10 फीसदी छात्रों ने नहीं लिया स्कूल में एडमिशन | Patrika News

जिले के 10 फीसदी छात्रों ने नहीं लिया स्कूल में एडमिशन


कक्षा 9वीं से 12 वीं तक के 8782 छात्र-छात्राओं ने छोड़ दी पढ़ाई
कोरोना काल में माता पिता के साथ कर गए दूसरे राज्यों में पलायन
डेटा डिकोडेड

छतरपुर

Published: August 22, 2021 07:24:51 pm


छतरपुर। कोरोना काल में पलायन के चलते जिले के दस फीसदी छात्रों ने इस साल स्कूल में एडमिशन नहीं लिया है। जिले में कक्षा 9वीं से 12 वीं तक कुल 88556 छात्रों को पिछले नामांकन के आधार पर एडमिशन दिया जाना था, लेकिन अभी तक केवल 90 फीसदी यानि 79774 छात्रों ने ही स्कूल में दाखिला लिया है। पूरे जिले के 211 स्कूलों में कुल 8782 छात्रों ने पढाई छोड़ दी है। ज्यादातर बच्चे पलायन के कारण स्कूल से वंचित हुए हैं।
 8782 छात्र-छात्राओं ने छोड़ दी पढ़ाई
8782 छात्र-छात्राओं ने छोड़ दी पढ़ाई

9वीं में 13 और 10 वीं 12 प्रतिशत गिरे एडमिशन
जिले के 115 हाईस्कूल व 96 हायरसेकंडरी स्कूल में वर्तमान शिक्षण सत्र में दाखिला की प्रक्रिया पूरी हो गई है। लेकिन पूरे जिले में 8 हजार 782 बच्चों ने स्कूल में प्रवेश नहीं लिया है। सबसे ज्यादा गिरावट कक्षा 9वी ंऔर दसवीं में आई है। पूरे जिले में कक्षा 9वीं में 28896 बच्चों का दाखिला होना था, लेकिन 25063 ने ही एडमिशन लिया। इस तरह से कक्षा 9वीं में 13 फीसदी बच्चेों ने एडमिशन नहीं लिए हैं। इसी तरह दसवीं में 27 हजार 390 बच्चों का दाखिला होना था, लेकिन अभी तक 24148 बच्चों का नामांकन हुआ है। दसवीं के एडमिशन में 12 फीसदी की गिरावट आई है।

12 वीं में केवल 3 फीसदी की गिरावट
कक्षा 11 वीं में पूरे जिले में 19283 बच्चों को एडमिशन लेना था, लेकिन 17952 बच्चे ही स्कूल में नामांकित हुए। 7 फीसदी बच्चो ने 10वी ंपास करने के बाद स्कूल छोड़ दिया। वहीं 12वीं में 12987 छात्रों की तुलना में 12611 ने एडमिशन लिया। 12वीं में 3 फीसदी बच्चे ऐसे हैं, जिन्होंने 11 वीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी है।

सर्वे में पढ़ाई से वंचितों का बड़ा आंकड़ा आया सामने
स्कूल शिक्षा विभाग ने पूरे प्रदेश में सर्वे कराया है। 22 लाख 62 हजार बच्चे स्कूल में प्रवेश दिलाने के लिए चुने गए। इनमें से अब तक सिर्फ चार लाख 17 हजार बच्चों का स्कूल में प्रवेश हुआ। यानी करीब 18 लाख बच्चे स्कूल जाने की उम्र में शिक्षा से वंचित हैं। इनमें करीब एक लाख 83 हजार ऐसे बच्चे हैं, जिनके माता-पिता कोरोना काल के दौरान दूसरे राज्यों में पलायन कर चुके हैं। एक लाख 38 हजार ऐसे बच्चे हैं, जिनका अब तक स्कूल में दाखिला ही नहीं हुआ है। करीब 22 हजार से अधिक 18 वर्ष से अधिक उम्र के पाए गए, जिन्होंने बहुत पहले ही स्कूल जाना छोड़ दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतरणवीर सिंह के बेडरूम सीक्रेट आए सामने,दीपिका को नहीं करने देते ये कामइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावधनु, मकर और कुंभ वालों को कब मिलेगी शनि साढ़े साती से मुक्ति, जानिए सही डेटदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेमहाराष्ट्रः Google के CEO सुंदर पिचई के खिलाफ दर्ज हुई FIR, जानिए क्या है मामलाUP Election 2022: छठां चरण- योगी आदित्यनाथ के लिए गोरखपुर सदर सुरक्षित घरेलू सीट, मगर...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.