script15 lakh population dependent on 10 chc,not even a single female doctor | 10 सामुदायिक स्वास्थ केन्द्रों पर 15 लाख की आबादी निर्भर, महिला डॉक्टर एक भी नहीं | Patrika News

10 सामुदायिक स्वास्थ केन्द्रों पर 15 लाख की आबादी निर्भर, महिला डॉक्टर एक भी नहीं


पूरे जिले में 38 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, 257 उपस्वास्थ्य केन्द्र पर भी महिला चिकित्सक नहीं
1000 ओपीडी वाले जिला अस्पताल में 38 डॉक्टरों व 68 कर्मचारियों की कमी

छतरपुर

Published: March 11, 2022 10:45:00 am

छतरपुर। छतरपुर जिला लंबे समय से डॉक्टरों की कमी से जूझ रहा है। पर्याप्त चिकित्सकों की तैनाती न होने के कारण अस्पतालों में आम जनता को जानलेवा हालातों से जूझना पड़ता है। सबसे बुरे हालात महिला चिकित्सकों के मामले में हैं। जिले में महिला चिकित्सकों की भारी कमी बनी हुई है। जिले के 10 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में से किसी में भी महिला चिकित्सक मौजूद नहीं है। ऐसे में जिले के दूरस्थ अंचलों से महिलाओं को अपने इलाज के लिए जिला अस्पताल की दौड़ लगानी पड़ती है।
खाली पड़े ब्लाक हॉस्पिटल
खाली पड़े ब्लाक हॉस्पिटल
खाली पड़े ब्लाक हॉस्पिटल
जिले में खजुराहो, घुवारा, किशनगढ़, बिजावर, बक्स्वाहा, बड़ामलहरा, लवकुशनगर, गौरिहार, नौगांव और ईशानगर में कोई भी क्लास-1 महिला चिकित्सक मौजूद नहीं है। इन अस्पतालों पर लगभग 15 लाख लोगों की आबादी का भार है। इन क्षेत्रों में महिलाओं को अपने इलाज के लिए काफी परेशान होना पड़ता है। इनके पास सिर्फ जिला अस्पताल में इलाज कराने का विकल्प रह जाता है लेकिन जिला अस्पताल में भी डॉक्टरों की भारी कमी है। उल्लेखनीय है कि जिले में 36 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, दो शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और 257 उपस्वास्थ्य केन्द्र मौजूद हैं जहां कोई महिला चिकित्सक तैनात नहीं है।
गर्भवती और स्त्री रोग से पीडि़त महिलाओं को होती हैं समस्याएं
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में महिला चिकित्सकों की तैनाती न होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे कई इलाके हैं जो जिला अस्पताल से 50 किमी दूर मौजूद हैं। इन इलाकों में रहने वालीं गर्भवती महिलाओं और स्त्री रोग से जूझती महिलाओं को कई बार समय पर इलाज नहीं मिल पाता। महिला चिकित्सकों की तैनाती के लिए लंबे समय से बिजावर, गौरिहार और लवकुशनगर में लोग मांग कर रहे हैं लेकिन यहां भी स्त्री रोग विशेषज्ञों की तैनाती नहीं की जा रही है।
जिला अस्पताल में भी स्टॉफ की कमी
पूरे जिले के लोग बेहतर इलाज के लिए जिला अस्पताल पर निर्भर हैं। लेकिन यहां भी डॉक्टरों व मेडिकल स्टाफ की कमी है। रोजाना की औसत 1000 ओपीडी वाले जिला अस्पतालम में 38 डॉक्टरों व 68 कर्मचारियों की कमी है। वहीं कोरोना काल के 2 साल में 11 डॉक्टर इस्तीफा दे चुके हैं। हालांकि संविदा नियुक्ति के आधार पर 10 डॉक्टर बुलाए गए हैं। लेकिन जिला अस्पताल को दो ही डॉक्टर मिले हैं। जिला अस्पताल में प्रथम श्रेणी के 34 डॉक्टर स्वीकृत हैं लेकिन इनमें से सिर्फ 8 प्रथम श्रेणी डॉक्टर ही काम कर रहे हैं। 21 पद रिक्त पड़े हैं जबकि 5 प्रथम श्रेणी डॉक्टर्स ने इस्तीफा दे रखा है। इसी तरह यदि द्वितीय श्रेणी डॉक्टर्स की बात करें तो यहां 34 संविदा श्रेणी के द्वितीय श्रेणी चिकित्सक स्वीकृत किए गए हैं लेकिन इनमें से सिर्फ 22 डॉक्टर ही कार्यरत हैं जबकि 12 पद रिक्त पड़े हुए हंै। कुल मिलाकर जिला अस्पताल में 30 चिकित्सक हैं। इनमें से कई प्रशासनिक व्यवस्थाओं और शासकीय योजनाओं में तैनात हैं। रात्रिकालीन ड्यूटी और इमरजेंसी सेवाओं में प्रतिदिन 4 डॉक्टर तैनात रहते हैं जिसके चलते उक्त डॉक्टर ओपीडी में नहीं बैठ सकते। यही वजह है कि अक्सर अस्पताल में मरीज डॉक्टर्स को खोजते रहते हैं। यही हालत अन्य स्टाफ के साथ भी है। जिला अस्पताल में कुल 265 अन्य स्टाफ के पद हैं लेकिन 197 पदों पर ही तैनाती है जबकि 68 पद खाली पड़े हुए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

UP Budget 2022 Live : यूपी की जनता को 1.41 करोड़ बिजली के फ्री कनेक्शनमोदी सरकार के 8 साल पूरे; नोटबंदी, एयर स्ट्राइक, धारा 370 खत्म करने सहित सरकार के 8 बड़े फैसलेआयकर विभाग के कर्मचारी ने तीन- तीन लाख रुपए में बेचे कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के पेपर, शिक्षिका पत्नी के खाते में किए ट्रांसफरपाकिस्तान में गृहयुद्ध जैसे हालात, लाखों समर्थकों संग डी-चौक पहुंचे इमरान खान, लोगों ने फूंका मेट्रो स्टेशन, राजधानी में सड़कों पर सेनाउद्धव के एक और मंत्री पर ED का शिकंजा, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब के घर प्रवर्तन निदेशालय का छापाKashmir On Alert: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में लश्कर के 3 आतंकी ढेर, सभी सशस्त्र बलों की छुट्टियाँ रद्दBy election in Five States: पांच राज्यों की तीन लोकसभा और सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव का ऐलान, इस दिन होगी वोटिंगआज से लागू हुआ नया टैक्स रूल, 20 लाख से अधिक के लेन-देन के लिए पैन या आधार जरूरी, जानिए क्या है नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.